scorecardresearch
 

संयुक्त राष्ट्र में चीन को झटका, ECOSOC का सदस्य बना भारत

भारत चार साल के लिए इस आयोग का सदस्य रहेगा. साल 2021 से लेकर 2025 तक भारत यूनाइटेड नेशन के कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन का सदस्य रहेगा.

टीएस तिरुमूर्ति (फोटो- एएनआई) टीएस तिरुमूर्ति (फोटो- एएनआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • संयुक्त राष्ट्र में चीन को झटका
  • भारत बना ECOSOC का सदस्य
  • चार साल के लिए होगी सदस्यता

भारत ने चीन को एक बार फिर से झटका दिया है. चीन को मात देते हुए आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) की संस्था यूनाइटेड नेशन के कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन के सदस्य के रूप में भारत को चुना गया है. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने इसकी जानकारी दी है.

टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि प्रतिष्ठित ECOSOC निकाय में भारत ने सीट जीती है. भारत को कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन (सीएसडब्ल्यू) का सदस्य चुना गया है. यह हमारे सभी प्रयासों में लैंगिक समानता और महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए हमारी प्रतिबद्धता का एक महत्वपूर्ण समर्थन है. हम सदस्य देशों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हैं.

बता दें कि भारत, अफगानिस्तान और चीन ने कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन के लिए चुनाव लड़ा था. इसमें भारत और अफगानिस्तान ने 54 सदस्यों के साथ मतदान में जीत हासिल की, जबकि चीन को करारी हार का सामना करना पड़ा. चीन आधे वोट भी नहीं जुटा पाया.

चार साल के लिए सदस्य

बता दें कि बीजिंग वर्ल्ड कॉन्फ्रेंस ऑन वूमेन (1995) की इस साल 25वीं सालगिरह है. इस मौके पर चीन को भारत के हाथों हार का सामना करना पड़ा है. वहीं इसके साथ ही अब भारत चार साल के लिए इस आयोग का सदस्य रहेगा. साल 2021 से लेकर 2025 तक भारत यूनाइटेड नेशन के कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन का सदस्य रहेगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें