scorecardresearch
 

अफगानिस्तान में फंसे हिंदू-सिख कब आएंगे देश? केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने दिया जवाब

अफगानिस्तान में तालिबान एक बार फिर से सत्ता में लौट आया है. तालिबान राज की शुरुआत होते ही कई जगह हिंसक घटनाएं सामने आई हैं. लोग देश छोड़कर दूसरी जगह जा रहे हैं.

X
केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज तालिबान
  • 'हिंदुओं-सिखों को निकालने में मंत्रालय प्रबंध करेंगे'
  • काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़, हुई गोलीबारी

अफगानिस्तान में तालिबान (Afghanistan-Taliban News) एक बार फिर से सत्ता में लौट आया है. तालिबान राज की शुरुआत होते ही कई जगह हिंसक घटनाएं सामने आई हैं. लोग देश छोड़कर दूसरी जगह जा रहे हैं, जिसकी वजह से काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़ इकट्ठी हो गई. इस बीच, अफगानिस्तान में रह रहे कई हिंदू और सिखों को लेकर भी भारत सरकार को चिंता होने लगी है. इस पर केंद्र सरकार की ओर से प्रतिक्रिया आई है.

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि अफगान में रहने वाले हिंदू और सिखों को बाहर निकालने के लिए विदेश मंत्रालय और अन्य विभाग सभी जरूरी प्रबंध करेंगे. हरदीप पुरी से अफगानिस्तान में रह रहे सिखों और हिंदुओं को लेकर सवाल पूछा गया था.

अमेरिकी सेना के अफगानिस्तान से जाने का फैसला करने के बाद से ही तालिबान ने तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए थे. कुछ ही दिनों के भीतर एक-एक करके तालिबान के लड़ाकों ने प्रांतों की राजधानियों पर कब्जा करना शुरू कर दिया. हेरात, मजार-ए-शरीफ आदि पर कब्जा करने के बाद बीते दिन तालिबान ने काबुल को भी अपने कब्जे में ले लिया था. अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी भी देश छोड़कर जा चुके हैं. अफगान के सरकारी कार्यालयों, बाहरी चेक पोस्ट्स पर भी तालिबान ने अपने लड़ाके तैनात कर दिए हैं.

अफगानिस्तान में हालात बिगड़ने के बाद से ही भारत सरकार ने भी कड़ी नजर बनाई रखी थी. कुछ दिन पहले सरकार की ओर से वॉट्सऐप नंबर्स जारी किए गए थे और भारतीय नागरिकों से जल्द से जल्द अफगान छोड़ने की अपील की गई थी. इसी बाबत मजार-ए-शरीफ से 50 से अधिक लोगों को लेकर विमान नई दिल्ली पहुंचा था. बाद में कई फ्लाइट्स के जरिए अन्य नागरिकों को भी वापस लाया गया.

उधर, अमेरिका-ब्रिटेन जैसे देशों ने भी अफगानिस्तान से अपनी एंबेसी को खाली कर लिया है. इसके लिए अमेरिका ने बड़ी संख्या में अफगानिस्तान में सैनिक भेजे हैं, जोकि अमेरिकी नागरिकों और कर्मचारियों को वापस देश लाने में मदद कर रहे हैं. काबुल एयरपोर्ट पर अपने नागरिकों को सुरक्षा मुहैया करवाने के उद्देश्य से अमेरिकी सैनिक तैनात हैं. 

काबुल एयरपोर्ट पर भगदड़ जैसी स्थिति बनने के बाद विमान सेवाओं को बंद कर दिया गया है. लोग विमानों पर जबरन बैठने की कोशिश कर रहे हैं. एयरपोर्ट पर लोगों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है. जो विमान में जहां भी जगह पा रहा है, वहीं सवार होकर यात्रा कर रहा है. तीन लोग विमान के पहिए पर लटककर यात्रा करने की कोशिश में अपनी जान से हाथ धो बैठे. तीनों आसमान से पहिए से तब जमीन पर गिरे, जब विमान हवा में था. वायरल हो रहे वीडियो में तीनों लोग एक-एक करके नीचे गिरते हुए दिखाई दे रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें