scorecardresearch
 

सिंघु बॉर्डर पर खुला किसान-मजदूर एकता अस्पताल, जानें खासियत

किसान आंदोलन को डेढ़ महीने से ज्यादा हो चुके हैं. दिल्ली के गाजीपुर, टिकरी और सिंधु बॉर्डर पर डटे किसानों के लिए लगातार मदद भी पहुंच रही है. बेमौसम बरसात और कड़कड़ाती सर्दी में किसानों के स्वास्थ्य की देखरेख के लिए डॉक्टर और दवाइयों की व्यवस्था तो है, लेकिन सिंघु बॉर्डर पर इन किसानों की मदद के लिए पहला मल्टी स्पेशलिटी मेकशिफ्ट अस्पताल भी तैयार हो चुका है.

 सिंघु बॉर्डर पर खुला किसान अस्पताल सिंघु बॉर्डर पर खुला किसान अस्पताल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सिंघु बॉर्डर पर खुला किसान अस्पताल
  • अस्पताल में किया 8 बेड का इंतजाम
  • मल्टीस्पेशलिटी मेकशिफ्ट अस्पताल तैयार

किसान आंदोलन को डेढ़ महीने से ज्यादा हो चुके हैं. दिल्ली के गाजीपुर, टिकरी और सिंधु बॉर्डर पर डटे किसानों के लिए लगातार मदद भी पहुंच रही है. बेमौसम बरसात और कड़कड़ाती सर्दी में किसानों के स्वास्थ्य की देखरेख के लिए डॉक्टर और दवाइयों की व्यवस्था तो है, लेकिन सिंघु बॉर्डर पर इन किसानों की मदद के लिए पहला मल्टी स्पेशलिटी मेकशिफ्ट अस्पताल भी तैयार हो चुका है.

ऑक्सीजन सिलेंडर से लेकर मॉनिटरिंग मशीन, ईसीजी मशीन और दूसरी आधुनिक मशीनों से लैस इस अस्पताल की क्षमता 8 बेड की है, जहां इमरजेंसी में आने वाले मरीजों की भी देखरेख की जा सकती है और उनका इलाज भी किया जा सकता है. इसी अस्पताल के साथ में दवाई के लिए एक मेडिकल स्टोर भी बनाया गया है, जहां लोगों को डॉक्टर के परामर्श के अनुसार मुफ्त दवाइयां भी दी जाती हैं.
 
इस अस्पताल में वरिष्ठ डॉक्टर के अलावा फिजियोथैरेपिस्ट और मेडिकल, पैरामेडिकल स्टाफ भी नियुक्त किया गया है. पंजाब के एक एनजीओ द्वारा किसानों की सेवा के लिए इस मेकशिफ्ट अस्पताल को सिंघु बॉर्डर के बीचों-बीच तैनात किया गया है. आठ बेड वाले इस मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के पैरामेडिकल स्टाफ रफीक का कहना है, "इस अस्पताल में ईसीजी से लेकर ब्लड प्रेशर, शुगर, फिजियोथैरेपिस्ट, ऑक्सीजन मॉनिटरिंग मशीन से लेकर हर सुविधा दी गई है. जहां हर तरह के मरीजों का इलाज किया जा सकता है और जरूरत में इस्तेमाल होने वाली हर दवा हमारे पास मौजूद है."
 
यहां काम कर रहे डॉ आर के शर्मा का कहना है कि ऐसा अस्पताल सिंघु बॉर्डर पर पहली बार बनाया गया है, जहां आपातकाल में भी मरीजों को देखा जा सकता है. डॉ शर्मा के मुताबिक बड़े बुजुर्गों में मौसम का असर देखा जा रहा है और ऐसे में अचानक चक्कर खाकर गिर पड़ना, ब्लड प्रेशर, शुगर, ठंड से होने वाली दूसरी बीमारियां बढ़ रही हैं. इनके लिए यह अस्पताल 24 घंटे खुला है.

देखें: आजतक LIVE TV

अस्पताल के साथ ही एक बड़ा मेडिकल स्टोर भी रखा गया है, जहां हर तरह की दवाइयों का पूरा स्टॉक है. इसे मरीजों को मुफ्त में बांटा जाता है. 8 बेड के इस मेकशिफ्ट मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में किसानों के लिए मुफ्त सेवा है जिन्हें किसी भी तरह के इलाज के लिए पैसे नहीं देने पड़ते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें