scorecardresearch
 

ट्रैक्टर परेड को लेकर किसान संगठनों ने तय किए नियम, हेल्पलाइन नंबर जारी, स्पीड भी तय

किसान नेताओं ने कहा है कि कोई बाहरी ट्रैक्टर परेड में शामिल नहीं होगा, सिर्फ रजिस्टर्ड को ही अनुमति रहेगी. इस परेड में सांस्कृतिक झांकिया भी देखने को मिलेंगी. इस आयोजन को लेकर हेल्पलाइन नंबर 7428384230 शुरू किया गया है.

X
26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड करेंगे किसान (फाइल फोटो) 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड करेंगे किसान (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • परेड को लेकर किसान संगठनों ने दी हिदायत
  • 26 जनवरी को किसान निकालेंगे ट्रैक्टर परेड
  • परेड में सांस्कृतिक झांकियों का भी प्रदर्शन

अमूमन हाई अलर्ट पर रहने वाली दिल्ली गणतंत्र दिवस के मौके पर पहली बार ट्रैक्टर परेड की गवाह बनेगी. नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड करेंगे. परेड को लेकर कुछ हिदायतें भी किसान संगठनों ने दी हैं.

किसान नेताओं ने कहा है कि कोई बाहरी ट्रैक्टर परेड में शामिल नहीं होगा, सिर्फ रजिस्टर्ड को ही अनुमति रहेगी. इस परेड में सांस्कृतिक झांकिया भी देखने को मिलेंगी. इस आयोजन को लेकर हेल्पलाइन नंबर 7428384230 शुरू किया गया है. साथ ही परेड के दौरान स्पीड लिमिट (10 किलोमीटर प्रति घंटा) भी तय कर दी गई है.

परेड से पहले हिदायत

- परेड में ट्रैक्टर और दूसरी गाड़ी चलेंगी, लेकिन ट्रॉली नहीं जाएगी
- जिन ट्रॉलियों में विशेष झांकी बनी होंगी, उन्हें छूट दी जा सकती है
- प्रदर्शनकारी 24 घंटे का राशन-पानी पैक करके लाएंगे
- जाम में फंसने पर ठंड से बचाव का इंतजाम भी रखेंगे
- हर ट्रैक्टर या गाड़ी पर किसान संगठन के झंडे के साथ-साथ राष्ट्रीय झंडा भी लगाया जाएगा
- किसी भी राजनीतिक दल का झंडा नहीं लगेगा
- भड़काऊ नारे वाले बैनर लगाने की सख्त मनाही रहेगी.

परेड के दौरान हिदायत

- परेड की शुरुआत किसान नेताओं की गाड़ी से होगी
- हरे रंग की जैकेट पहने ट्रैफिक वॉलिंटियर हिदायत देंगे
- पुलिस और ट्रैफिक वॉलिंटियर प्रदर्शनकारियों को गाइड करेंगे
- तय रूट से बाहर जाने की कोशिश पर कार्रवाई होगी
- परेड खत्म होने के बाद सभी वहां पहुंचेंगे, जहां से परेड शुरू हुई थी
- एक ट्रैक्टर पर ज्यादा से ज्यादा ड्राइवर समेत पांच लोग सवार होंगे
- बोनट, बंपर या छत पर कोई नहीं बैठेगा
- ट्रैक्टर में अपने ऑडियो नहीं बजाए जाएंगे 
- कचरा सड़क पर ना फेंकने की हिदायत 
- परेड के दौरान एंबुलेंस भी मौजूद रहेगी

बता दें कि दिल्ली के तीन जगहों से किसानों को ट्रैक्टर रैली की इजाजत है. सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर से बैरिकेड्स को हटाकर कुछ किलोमीटर तक अंदर आने पर सहमति हुई है. टिकरी बॉर्डर से प्रवेश करने पर 63-64 किलोमीटर के स्ट्रेच, सिंघु बॉर्डर से 62-63 किलोमीटर के स्ट्रेच और गाजीपुर बॉर्डर से 46 किलोमीटर के स्ट्रेच की अनुमति है. ट्रैक्टरों को इस तरह से लाया जाए कि मार्च शांतिपूर्ण और अनुशासित तरीके से हो.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें