scorecardresearch
 

कोवैक्सीन को इस महीने WHO से मिल सकती है मंजूरी: वीके पॉल

नीति आयोग के सदस्य (हेल्थ) डॉ. वीके पॉल ने उम्मीद जताई है कि इस महीने कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मंजूरी मिल सकती है. उन्होंने कोवैक्सीन के डाटा को बेहतर बताते हुए कहा है कि आने वाले कुछ हफ्तों में इसे हरी झंडी दी जा सकती है.

कोवैक्सीन कोवैक्सीन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'इस महीने मिल सकती है कोवैक्सीन को मंजूरी'
  • 'साल के अंत तक हो युवाओं का पूरा सकता है टीकाकरण'

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बाद अब तीसरी लहर आने की आशंका जताई जा रही है. कोई कह रहा है कि यह तीन महीने बाद आ सकती है तो किसी का कहना है कि जितनी आशंका जताई जा रही है, यह उतनी अधिक घातक नहीं होगी. इसके पीछे वैक्सीनेशन अभियान को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. नीति आयोग के सदस्य (हेल्थ) डॉ. वीके पॉल ने उम्मीद जताई है कि इस महीने कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मंजूरी मिल सकती है. उन्होंने कोवैक्सीन के डाटा को बेहतर बताते हुए कहा है कि आने वाले कुछ हफ्तों में इसे हरी झंडी दी जा सकती है.

वीके पॉल ने 'आजतक' से खास बातचीत में कहा कि उम्मीद है कि देश में युवा पीढ़ी का इस साल के अंत तक वैक्सीनेशन पूरा हो जाएगा. वैक्सीनेशन अभियान ने गति पकड़ी है और अब लोगों में टीका लगवाने की झिझक भी ज्यादा नहीं दिखाई दे रही. लोगों के अंदर वैक्सीनेशन को लेकर उत्सुकता है. अब इसे सुलभ बनाने की चुनौती है. वैक्सीन को लोगों तक ले जाने की जरूरत है. पॉल ने देश में 75 करोड़ टीकाकरण होने की उपलब्धि पर कहा कि यह आंकड़ा महत्वपूर्ण है. 

उन्होंने बच्चों पर कोरोना के असर पड़ने के सवाल पर कहा कि बच्चों के लिए आईसीयू तैयार किए जा रहे हैं. वहीं, त्योहारों के बाद कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी संभव है. उन्होंने कहा कि यह निश्चित तौर पर नहीं कह सकते हैं कि कोरोना की तीसरी लहर आएगी ही. इसके अलावा, भारत में डेल्टा वैरिएंट के अलावा किसी और वैरिएंट के ज्यादा मामले सामने नहीं आ रहे हैं.

बच्चों में कोरोना की स्थिति पर उन्होंने कहा कि बच्चों में संक्रमण के मामले बढ़ तो रहे हैं, लेकिन मृत्युदर घट रही है. अब बच्चे आसपास ज्यादा जाने लगे हैं, लेकिन परेशान होने की बात नहीं है. बच्चों में ज्यादा टेस्टिंग हो रही है. स्कूलों को खोले जाने के मामले में पॉल ने कहा कि प्रोटोकॉल्स के साथ ही इन्हें खोला जा सकता है. वहीं, पॉल ने कहा कि अभी यह नहीं कह सकते हैं कि क्या वाकई कोरोना वायरस एंडेमिक की ओर जा रहा है या नहीं.

उन्होंने फाइजर और मॉडर्ना वैक्सीन के साथ बातचीत जारी रहने की बात भी की. पॉल ने कहा कि दोनों कंपनियों के साथ बातचीत जारी है. हालांकि, पॉल ने बूस्टर डोज को लेकर कोई भी डाटा उपलब्ध नहीं होने की बात कही. इसके साथ ही वैक्सीन को मिलाने को लेकर कहा कि अभी हम काफी शुरुआती स्टेज पर हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें