scorecardresearch
 

Corona Vaccines for Children: सितंबर तक आ सकती है बच्चों की कोरोना वैक्सीन, देश में ये 5 टीके तैयार होने के करीब

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी की डायरेक्टर प्रिया अब्राहम ने एक राहत भरी जानकारी दी है. उन्होंने बताया है कि बच्चों के लिए सितंबर तक वैक्सीन की उपलब्धता हो सकती है.

सितंबर तक आ सकती है बच्चों की वैक्सीन (PTI) सितंबर तक आ सकती है बच्चों की वैक्सीन (PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सितंबर तक आ सकती है बच्चों की वैक्सीन
  • 5 कोरोना की वैक्सीन पर चल रहा काम
  • देश में अब तक 50 करोड़ से अधिक डोज लगीं

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की रोकथाम के लिए वैक्सीनेशन (Vaccination) अभियान तेज गति से जारी है. अब तक 50 करोड़ से अधिक डोजेज लगाई जा चुकी हैं. वर्तमान समय में 18 साल से अधिक उम्र वालों का टीकाकरण किया जा रहा है, जबकि बच्चों के टीके (Corona Vaccine for Children) का बेसब्री से इंतजार हो रहा है. इस बीच, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) की डायरेक्टर प्रिया अब्राहम ने एक राहतभरी जानकारी दी है. उन्होंने बताया है कि बच्चों के लिए सितंबर तक वैक्सीन की उपलब्धता हो सकती है. इसके लिए दो से 18 साल की उम्र वालों के लिए विभिन्न अस्पतालों में ट्रायल भी चल रहा है. बच्चों की कम-से-कम पांच वैक्सीन्स पर काम चल रहा है.

साइंस एंड टेक्नॉलोजी डिपार्टमेंट के एक ओटीटी प्लेटफॉर्म इंडिया साइंस को दिए इंटरव्यू में, अब्राहम ने कहा कि फेज 2/3 के क्लीनिकल ट्रायल 2 से 18 वर्ष की आयु के लोगों के लिए प्रक्रिया में हैं. उन्होंने आगे कहा, "उम्मीद है कि परिणाम जल्द ही उपलब्ध होंगे और उन्हें रेग्युलेटर्स के सामने पेश किया जाएगा. शायद सितंबर तक या सितंबर के ठीक बाद, हमारे पास बच्चों के लिए एक टीका हो सकता है और यह यह कोवैक्सिन है.'' उन्होंने यह भी बताया कि जाइडस कैडिला का ट्रायल जारी है और बच्चों को शामिल करने के लिए वैक्सीन उपलब्ध कराई जा सकती है. यहां तक कि जाइडस कैडिला वैक्सीन भी उपलब्ध हो सकती है. एनआईवी स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के तहत आने वाली एक बॉडी है.

ये चार वैक्सीन्स भी पाइपलाइन में
एजेंसी के अनुसार, पिछले महीने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बीजेपी सांसदों से कहा था कि बच्चों के लिए कोविड टीकाकरण जल्द शुरू होने की संभावना है. वहीं, अन्य कोरोना वैक्सीन के बारे में अब्राहम ने कहा कि जाइडस कैडिला के अलावा, जो कि पहली डीएनए वैक्सीन होगी, जेनोवा का एक और टीका, जो एक एमआरएनए वैक्सीन है, बायोलॉजिकल ई और नोवावैक्स की वैक्सीन भी पाइपलाइन में हैं. वहीं, डेल्टा-प्लस वैरिएंट पर एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस वैरिएंट के डेल्टा वैरिएंट की तुलना में फैलने की संभावना कम है.

'अस्पताल में भर्ती होने से बचाता है टीका'
उन्होंने बताया कि टीकाकरण किए गए लोगों के शरीर में पैदा हुई एंटीबॉडी को इस वैरिएंट के खिलाफ जांचा गया और यह पाया गया कि एंटीबॉडी का असर दो से तीन गुना कम हो गई थी. उन्होंने कहा, ''हालांकि, फिर भी अब भी टीका वैरिएंट के खिलाफ काफी सुरक्षा देता है.'' बता दें कि वैक्सीन भले ही वैरिएंट के खिलाफ थोड़ा कम प्रभावी दिखे, लेकिन यह गंभीर रूप से बीमार होने से रोकने में काफी महत्वपूर्ण साबित होती हैं. टीकाकरण के बाद कोविड होने से अस्पताल में भर्ती और मृत्यु होने की आशंका काफी कम हो जाती है. उन्होंने कहा, ''चाहे जो भी वैरिएंट हो, कोविड वैक्सीन सुरक्षा ही देती है फिर चाहे वह डेल्टा वैरिएंट ही क्यों न हो.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें