scorecardresearch
 

लव जिहाद कानून मुस्लिम विरोधी नहीं, ये हर धर्म पर लागू है: योगी आदित्यनाथ

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लव जिहाद पर बना कानून मुस्लिम विरोधी नहीं है. यह कानून हिंदुओं पर भी लागू होता है. जो गलत करेगा उसे दंडित किया जाएगा. 

X
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीधी बात में सीएम योगी का बयान
  • लव जिहाद कानून मुस्लिम विरोधी नहीं
  • योगी आदित्यनाथ ने कहा- ये हर धर्म पर लागू है

आजतक के कार्यक्रम 'सीधी बात' में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लव जिहाद कानून पर अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि लव जिहाद कानून मुस्लिम विरोधी नहीं है. ये कानून हर धर्म पर लागू है. सीएम योगी ने कहा कि जो गलत करेगा उसे सजा मिलेगी. 

'लव जिहाद कानून मुस्लिम विरोधी नहीं'

'सीधी बात' में वरिष्ठ पत्रकार प्रभु चावला ने सीएम योगी से लव जिहाद पर बने कानून के बारे में सवाल किया. जिस पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लव जिहाद पर बना कानून मुस्लिम विरोधी नहीं है. यह कानून हिंदुओं पर भी लागू होता है. कानून हर धर्म के लोगों पर लागू होता है. सीएम योगी ने आगे कहा कि जो गलत करेगा उसे दंडित किया जाएगा. 

'लोगों पर कार्रवाई हुई'

'सीधी बात' में यूपी के सीएम ने कहा कि प्रदेश के अंदर ऐसी (लव जिहाद की) कई घटनाएं हुई हैं. इसलिए इस कानून की जरूरत पड़ी. उन्होंने कहा कि अब कानून बन चुका है. कानून लागू भी हो चुका है. साथ ही 50-55 के आसपास लोगों पर कार्रवाई हो चुकी है.

मुलायम-अखिलेश का हाल-चाल लेता रहता हूं.

सदन में दिए अपने बयान को लेकर सीएम योगी ने कहा कि हमारी विपक्ष के नेताओं से बात होती रहती है. वे हमारे दुश्मन नहीं हैं. मुलायम सिंह यादव का हाल-चाल लेता रहता हूं. अखिलेश यादव से भी बात होती है.  'सीधी बात' में अगले साल उत्तर प्रदेश में हो रहे विधानसभा चुनाव के बारे में सीएम योगी ने कहा कि 2022 के चुनाव में हम बहुमत के साथ जीतेंगे. उत्तर प्रदेश की जनता पहले से ही तय कर चुकी है. हम प्रदेश की जनता के हितों के लिए कार्य कर रहे हैं.  

कानून से कोई खिलवाड़ नहीं कर सकता

'सीधी बात' कार्यक्रम में 'ठोक दो' वाले अपने बयान पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानून से कोई खिलवाड़ नहीं कर सकता. हर हाल में शांति व्यवस्था बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है. हर किसी को प्रदेश में रहने का अधिकार है, लेकिन कानून के दायरे में रहना होगा.

जय श्री राम के नारे को लेकर चल रही राजनीति पर सीएम योगी ने कहा कि ये नारा हमारे सामान्य शिष्टाचार का उद्बोधन है. हम जब आपस में मिलते हैं तो राम-राम बोलते हैं. ये हमारा सनातन संबोधन है. ममता बनर्जी के जय सिया राम और जय श्री राम में कोई अंतर नहीं है.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें