scorecardresearch
 

CM शिवराज सिंह बोले- MP में नहीं लगेगा लॉकडाउन, कल से 5 जिलों में नाइट कर्फ्यू

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के लगातार बढ़ते मामले को देखते हुए आज शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी. बैठक में तय किया गया कि मध्य प्रदेश में फिलहाल दोबारा लॉकडाउन नहीं लगेगा. लेकिन 5 जिलों में नाइट कर्फ्यू कल से लगाया जाएगा.

मध्य प्रदेश में फिलहाल नहीं लगेगा लॉकडाउन (सांकेतिक-पीटीआई) मध्य प्रदेश में फिलहाल नहीं लगेगा लॉकडाउन (सांकेतिक-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'नाइट कर्फ्यू पर फैसला क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप करेगा'
  • 'श्रमिकों के आने-जाने पर भी किसी तरह की रोक नहीं'
  • 'इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, रतलाम और विदिशा में नाइट कर्फ्यू'
  • स्कूल-कॉलेज अभी नहीं खोले जाएंगेः CM शिवराज

देश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं. कई राज्यों और शहरों में लॉकडाउन लगाए जाने की मांग हो रही है, लेकिन इस बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ कर दिया कि राज्य में फिर से लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा. हालांकि स्कूल-कॉलेज अभी बंद रहेंगे.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के लगातार बढ़ते मामले को देखते हुए आज शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी. बैठक में तय किया गया कि मध्य प्रदेश में फिलहाल दोबारा लॉकडाउन नहीं लगेगा.

बैठक के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य से कोरोना संक्रमण से प्रभावित जिलों में कल शनिवार से अगले आदेश तक रोजाना रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू का लगाने का फैसला लिया गया है. दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे. लोग अति आवश्यक होने पर इस अवधि में यात्रा परिवहन कर सकेंगे. 

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल समेत इंदौर, ग्वालियर, रतलाम और विदिशा जिले में कल रात 10 से सुबह 6 बजे तक व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे. हालांकि इस दौरान औद्योगिक मजदूरों के आवागमन और ट्रकों के परिवहन पर कोई रोक नहीं रहेगी.

8 तक के क्लास 31 दिसंबर तक बंद

बैठक में यह तय किया गया कि राज्य में कक्षा 1 से 8 तक के समस्त स्कूल 31 दिसंबर तक बंद रहेंगे. जबकि कक्षा 9 से 12 तक के स्कूली छात्र-छात्राएं एवं कॉलेज के छात्र-छात्राएं विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप स्कूल कॉलेज आ जा सकेंगे.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक बुलाकर विचार-विमर्श के निर्देश दिए. क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप तय करेगा कि उनके जिलों में कोरोना की स्थिति के मद्देनजर बाजार का समय घटाया जाए या रात्रि कालीन कर्फ्यू लगाया जाए या नहीं.

प्रदेश के समस्त जिलों में 21 नवंबर से जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों की बैठक आयोजित कर 22 नवंबर तक जिला कलेक्टर सुझाव सरकार को भेजने को कहा गया है. क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठकों में विवाह-सामाजिक आदि कार्यक्रमों में उपस्थिति की अधिकतम सीमा तय की जाएगी. जिलों में कौन-कौन से कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं यह भी तय होगा.

साथ ही बैठक में यह भी तय किया गया है कि ट्रांसपोर्ट नहीं रुकेगा. आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही जैसी होती चली आ रही है वो यथावत रहेगी. कोरोना संकट में अर्थव्यवस्था प्रभावित ना हो, साथ ही महामारी का प्रकोप न बढ़े इस दृष्टि से जागरूकता के लगातार प्रयास भी होते रहेंगे.

देखें: आजतक LIVE TV

बैठक में यह भी तय किया गया कि औद्योगिक संगठनों पर भी कोई बंदिश नहीं होगी. श्रमिकों के आने जाने पर भी किसी तरह की कोई रोक नहीं होगी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विवाह आयोजनों में लोगों की संख्या सीमित रहे और सभी सुरक्षा उपायों का पालन हो. सिनेमाघर अभी पूर्व व्यवस्था के अनुसार 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही खुलेंगे. साथ ही उन्होंने स्कूल-कॉलेजों के फिर से खोले जाने के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल-कॉलेज अभी नहीं खोले जाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें