scorecardresearch
 

भगोड़े माल्या-नीरव पर बोले बोरिस जॉनसन- UK में इनके लिए जगह नहीं, भारत को सौंपना चाहते हैं

भारत आए ब्रिटेन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि वे अपने देश में विजय माल्या और नीरव मोदी जैसे लोगों का स्वागत नहीं करना चाहते हैं. वे उन्हें भारत वापस भेजना चाहते हैं.

X
ब्रिटेन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ब्रिटेन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बोरिस बोले-2050 में भारती तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी
  • कीव में ब्रिटेन फिर खोलेगा अपना दूतावास, किया ऐलान

दो दिन के भारत दौरे पर आए ब्रिटेन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बड़ा बयान दिया है. जब उनसे भगोड़े नीरव मोदी और विजय माल्या पर सवाल किया गया तो उन्होंने दो टूक कहा कि वे उन दोनों को भारत को सौंपना चाहते हैं.

विजय माल्या-नीरव मोदी पर जॉनसन 

उन्होंने कहा कि आपने जिन दो लोगों की बात की है, हम उन्हें वापस भारत भेजना चाहते हैं. लेकिन इसमें कुछ कानूनी पेंच हैं. हम तो कभी भी उन लोगों का स्वागत नहीं करना चाहते जो कानून से बचने के लिए हमारे देश में आते हैं. इसी कड़ी में ब्रिटेन में सक्रिय कुछ खालिस्तानी संगठनों पर भी जॉनसन ने साफ कर दिया है कि उनकी तरफ से एंटी टेररिस्ट टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया है और उचित कार्रवाई की जाएगी.

इस सब के अलावा बातचीत के दौरान बोरिस जॉनसन ने रूस-यूक्रेन युद्ध पर भी विस्तार से बात की. उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते से कीव में एक बार फिर ब्रिटेन का दूतावास खोल दिया जाएगा. प्रेस वार्ता के दौरान बोरिस जॉनसन ने जोर देकर कहा कि इस मुश्किल समय में भारत संग उनके रिश्ते और ज्यादा मजबूत हुए हैं. 

रूस-यूक्रेन युद्ध पर बड़ा बयान

बोरिस जॉनसन ने कहा है कि मैं सबसे पहले यूक्रेन पर बात करना चाहता हूं. मारियूपोल में जिस तरीके की कार्रवाई की गई है, वो पूरी तरह रूस के खिलाफ जाती है. लेकिन फिर भी अब हम कीव में फिर अपना दूतावास खोलने जा रहे हैं.  इस सब के अलावा बोरिस जॉनसन ने रूस-भारत के रिश्तों पर भी विस्तार से बात की. जब उनसे भारत के स्टैंड को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने दो टूक कहा कि भारत के रूस संग काफी पुराने रिश्ते हैं. रूस को लेकर भारत का जो स्टैंड रहा है, वो सभी को पहले से पता है. वो आगे भी नहीं बदलने वाला है.

अब एक बार लिए रूस-यूक्रेन मुद्दे पर भारत और ब्रिटेन के स्टैंड एक समान नहीं है, लेकिन फिर भी बोरिस जॉनसन मानते हैं कि भारत संग उनके रिश्ते काफी मजबूत हैं. उनकी तरफ से जोर देकर कहा गया है कि साल 2050 तक भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हो जाएगी. महत्वकांक्षी फ्री ट्रेड एग्रीमेंट पर भी बोरिस जॉनसन ने बड़ा ऐलान किया है. उन्होंने बताया है कि इस साल दिवाली तक उस डील को फाइनल कर लिया जाएगा. उनकी तरफ से इस प्रक्रिया को तेज करने के निर्देश दिए जा चुके हैं.

मोदी को बताया खास दोस्त

वैसे बोरिस जॉनसन के भारत दौरे की बात करें तो पहले दिन उनका गुजरात में जोरदार स्वागत किया गया था. उस स्वागत से बोरिस जॉनसन भी इतने खुश हुए थे कि उन्होंने पीएम मोदी को अपना खास दोस्त बताया. उन्होंने इस बात पर भी उत्साह जताया कि गुजरात में हर जगह उनके पोस्टर लगे थे, उन्हें अमिताभ बच्चन-सचिन तेंदुलकर जैसा महसूस हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें