scorecardresearch
 

बिना ठगे काम नहीं करते, आंदोलन में मिल रही शराब, भानु प्रताप का टिकैत पर गंभीर आरोप

शनिवार को भानु प्रताप सिंह ने कहा कि राकेश टिकैत बिना ठगे कोई काम नहीं करते हैं. किसान आंदोलन कांग्रेस की फंडिंग से चल रहा है. भानु प्रताप सिंह ने कहा कि वहां काजू, बादाम, पिस्ता, किशमिश और शराब की बोतल मिल रही है. असली किसान आंदोलन में नहीं है, वहां केवल शराब पीने वाले और नोट लेने वाले लोग हैं.

X
राकेश टिकैत के खिलाफ आरोप (फोटो- पीटीआई) राकेश टिकैत के खिलाफ आरोप (फोटो- पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'असली किसान आंदोलन में नहीं है'
  • 'शराब पीने और नोट लेने वाले लोग आंदोलन में'

कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे राकेश टिकैत पर दूसरे किसान नेता भानु प्रताप सिंह ने फिर हमला बोला है. भानु प्रताप सिंह ने राकेश टिकैत को ठग बताया है. उन्होंने कहा है कि राकेश टिकैत बिना ठगे कोई काम नहीं करते हैं. भानु प्रताप सिंह ने आरोप लगाया कि किसान आंदोलन कांग्रेस सरकार की फंडिंग से चल रहा है. 

बता दें कि केंद्र द्वारा तीन लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लंबे समय से आंदोलन चल रहा है. राकेश टिकैत समेत दूसरे किसान संगठन कृषि कानूनों को रद्द करने के अलावा किसी और भी फैसले पर राजी नहीं हैं. बता दें कि 26 जनवरी से पहले किसान आंदोलन में भानु प्रताप सिंह और उसका संगठन भी शामिल था. लेकिन गणतंत्र दिवस की हिंसा के बाद भानु प्रताप सिंह इस आंदोलन से अलग हो गए. 

इसके बाद भानु प्रताप सिंह राकेश टिकैत पर कई आरोप लगा चुके हैं. भानु प्रताप सिंह ने कहा है कि उन्हें आंदोलन स्थगित कर देना चाहिए. शनिवार को भानु प्रताप सिंह ने कहा कि राकेश टिकैत बिना ठगे कोई काम नहीं करते हैं. किसान आंदोलन कांग्रेस की फंडिंग से चल रहा है. भानु प्रताप सिंह ने कहा कि वहां काजू, बादाम, पिस्ता, किशमिश और शराब की बोतल मिल रही है. असली किसान आंदोलन में नहीं है, वहां केवल शराब पीने वाले और नोट लेने वाले लोग हैं. 

बता दें कि 26  नवंबर 2021 को किसान आंदोलन के एक वर्ष पूरा होने वाला है. नरेंद्र मोदी सरकार 17 सितंबर 2020 को अध्यादेश पारित कर नए कृषि कानून लाई थी.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें