scorecardresearch
 

राम जन्मभूमि ट्रस्ट के खाते से क्लोन चेक से निकाले गए 6 लाख रुपये SBI ने लौटाए

पिछले दिनों क्लोन चेक के जरिए अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से लाखों रुपये निकाल लिए गए थे. इस फर्जीवाड़ा का खुलासा तब हुआ, जब जालसाज ने 9 लाख 86 हजार रुपये का तीसरा क्लोन चेक लखनऊ के एसबीआई में भुगतान के लिए लगाया. फिलहाल मामला सुलझ गया है.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महामंत्री चंपत राय (फाइल-पीटीआई) श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महामंत्री चंपत राय (फाइल-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2 बार में लखनऊ से निकाली गई 6 लाख की राशि
  • 9 लाख से ज्यादा निकालने की कोशिश में मामला सामने आया
  • अयोध्या कोतवाली में धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बने श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के खाते में छह लाख रुपये निकासी का मामला सुलझ गया है. न्यास के खाते में पैसा वापस आ गया है. फर्जीवाड़े का मामला सामने आने पर भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने निकासी की गई रकम को फिर से जमा करा दिया है. 

निकासी का मामला सुलझने के बाद श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महामंत्री चंपत राय ने संदेश जारी कर कहा कि फर्जी चेक और फर्जी हस्ताक्षर करके श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के भुगतान खाते से पैसा निकाल कर पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में ट्रांसफर कराया गया 6 लाख रुपये भारतीय स्टेट बैंक ने वापस श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र खाते में जमा करा दिया है. त्वरित कार्रवाई के लिए भारतीय स्टेट बैंक के संबंधित अधिकारियों के प्रति ट्रस्ट की ओर से हार्दिक आभार. 

गौरतलब है कि पिछले दिनों क्लोन चेक के जरिए अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से लाखों रुपये निकाल लिए गए थे. इस फर्जीवाड़ा का खुलासा तब हुआ, जब जालसाज ने 9 लाख 86 हजार रुपये का तीसरा क्लोन चेक लखनऊ के एक बैंक में भुगतान के लिए लगाया. बड़ी रकम होने के कारण बैंक ने इस बार ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय से कंफर्म किया तो उन्होंने ऐसा कोई चेक जारी करने से मना कर दिया.

इसके बाद बैंक ने भुगतान रोकते हुए पूरे मामले की जांच शुरू कर दी. चंपत राय ने इस बीच अयोध्या पुलिस से इसकी शिकायत की. इसके बाद अयोध्या कोतवाली में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया.

बताया जाता है कि इस फर्जीवाड़े की शुरुआत 1 सितंबर को उस समय हुई, जब श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के खाते का एक क्लोन चेक लखनऊ के एक बैंक में लगाया गया. यह चेक ढाई लाख रुपये का था. छोटी रकम होने के कारण इस चेक का वेरिफिकेशन नहीं हुआ और यह रकम पास हो गई.

इसके दो दिन बाद इसी तरह लखनऊ के ही उसी बैंक में साढ़े तीन लाख रुपये का एक और क्लोन चेक लगाया गया और यह चेक भी पास हो गया.

इस तरह श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास का 6 लाख रुपये जालसाजों ने हड़प लिया, लेकिन 9 सितंबर को जब लखनऊ के एक बैंक में 9 लाख 86 हजार रुपये का तीसरा चेक भुगतान के लिए लगाया गया तो बड़ी रकम होने के कारण इस बार बैंक ने ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को कंफर्म करने के लिए फोन किया. तो उन्होंने ऐसा चेक जारी करने से इनकार कर दिया.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें