scorecardresearch
 

सर्जिकल स्ट्राइक करने वाले Army के पैरा कमांडो देंगे BSF के जवानों को ट्रेनिंग, ये है खास वजह

LoC पर जल्द ही बीएसएफ के 70 जवान तैनात होंगे. इन्हें बॉर्डर की चुनौतियों के अनुसार ही तैयार किया जा रहा है. लिहाजा सेना के पैरा कमांडो बीएसफए के जवानों को ट्रेनिंग देंगे.

X
सेना के पैरा कमांडो BSF के जवानों को ट्रेनिंग दे रहे हैं सेना के पैरा कमांडो BSF के जवानों को ट्रेनिंग दे रहे हैं
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 70 कमांडो जल्द LOC पर तैनात होंगे
  • आर्मी की स्पेशल फोर्सेज दे रही है ट्रेनिंग

लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर जैसी चुनौतियां है अब उसी के अनुसार सुरक्षा बलों को तैयार किया जाएगा. दरअसल BSF के 70 कमांडो हाल ही में शिलॉन्ग से जम्मू-कश्मीर पहुंचे है. इन्हें बॉर्डर पर तैनाती से पहले आर्मी के पैरा कमांडो ट्रेनिंग देंगे. ये आर्मी के वही पैरा कमांडो हैं, जिन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की थी. ऐसा पहली बार हो रहा है कि LoC पर तैनात होने वाले BSF के कमांडो को आर्मी के 7 पैरा कमांडो ट्रेनिंग देंगे.

BSF के IG कश्मीर रेंज राजा बाबू सिंह ने आजतक से खास बातचीत में कहा कि कश्मीर थिएटर पर लाइन ऑफ कंट्रोल को गार्ड करना बड़ी चुनौती होती है. इस एरिया में ज्यादा चैलेंज और ज्यादा टफनेस और रॉबस्ट जरूरत है. पहले भी जो हमारी पलटन एलओसी पर तैनात होने के लिए आती रही हैं, उनके लिए फ्री इंडक्शन ट्रेनिंग सिस्टम है. लेकिन अब नए दौर का कश्मीर है, नया चैलेंज है, इसलिए स्पेशल फोर्सेज यानी आर्मी के पैरा कमांडो ट्रेनिंग देंगे.

बीएसएफ में अब नए दौर के जवान हैं, नए वेपन सिस्टम, नए सर्विलांस इक्विपमेंट है, नए तरीके की जरूरतें हैं, उसके लिए स्पेशल फोर्सेज के जरिए ट्रेनिंग दिलवाई जा रही है. बीएसएफ आईजी राजा बाबू सिंह ने कहा कि जब से बीएसएफ का लाइन ऑफ कंट्रोल पर आर्मी के साथ डेप्लॉयमेंट हुआ है, बीएसएफ हमेशा आर्मी के साथ ऑप्स कंट्रोल में रहकर बहुत ही प्रभावी आउटपुट दे रही है. भले ही दिनों दिन चैलेंज बढ़ रहे हैं, लेकिन उसी के मुताबिक हमारी तैयारी अच्छी हो रही है. इसीलिए इस बार हम आर्मी की स्पेशल फोर्सेज से अपने ग्रुप को ट्रेनिंग दिला रहे हैं. ताकि बॉर्डर की चुनौतियों से निपटा जा सके.

सूत्रों ने बताया कि POK में आतंकियों की ट्रेनिंग कैंप मुजकफरबाद, लीपा वैली और तेंजिन में बड़े स्तर पर शुरू किए हैं, जहां 500 से 700 आतंकी ट्रेनिंग ले रहे हैं. यही नहीं 11 जगहों पर लॉन्च पैड भी सक्रिय किए गए हैं. सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों ने आजतक को जानकारी दी है कि इस समय पाकिस्तान की आर्मी और ISI ने ज़ुरा, खोई, छेजुआ खतरनाक लॉन्च पैड सक्रिय किए हैं. नौगाम सेक्टर में पिछले साल की अपेक्षा इस साल भारी संख्या में आतंकी मौजूद हैं. यहां ISI 6 नए लॉन्च पैड को सक्रिय कर आतंकी भेजने की कोशिश में लगी है. वहीं एक रिपोर्ट से यह भी खुलासा हुआ है कि लश्कर और जैश के दो दर्जन आतंकियों को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने ट्रेंड कर उरी के पास मौजूद 5 लॉन्चिंग पैड पर इकट्ठा किया है. इनको खुफिया रास्तों के जरिए कश्मीर घाटी में घुसपैठ कराने की तैयारी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें