scorecardresearch
 

तेजस्वी ने बेरोजगारों के लिए खोली वेबसाइट, चीनी सेना कर रही किलेबंदी, सुनें 'आज का दिन'

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बाकायदा बेरोज़गारों के लिए एक वेबसाइट खोल दी है. यहां पर नौकरी तलाश रहे युवाओं से बायोडाटा माँगा जा रहा है. इसके अलावा और भी कई तरह की जानकारी ली गई है जैसे फ़ोन नंबर, पता, व्हाट्सप नंबर, ईमेल आईडी वगैरह.

तेजस्वी यादव (फाइल फोटो-PTI) तेजस्वी यादव (फाइल फोटो-PTI)

बिहार पर चुनाव का रंग चढ़ रहा है. हर छोटी-बड़ी बात मुद्दा है. ऐसे में बेरोज़गारों के गुस्से और निराशा को आरजेडी ने भुनाने का मन बनाया है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बाकायदा बेरोज़गारों के लिए एक वेबसाइट खोल दी है. यहां पर नौकरी तलाश रहे युवाओं से बायोडाटा माँगा जा रहा है. इसके अलावा और भी कई तरह की जानकारी ली गई है जैसे फ़ोन नंबर, पता, व्हाट्सप नंबर, ईमेल आईडी वगैरह. पार्टी इस डेटा का क्या करनेवाली है ना ये किसी को पता है और ना सूचना इस बारे में है कि बेरोज़गारों से जानकारी लेकर उन्हें नौकरी कैसे दिलाई जाएगी. वेबसाइट पर ऐसी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है तो हमने इस वेबसाइट को लेकर कई सवाल आजतक रेडियो रिपोर्टर सुजीत झा से पूछे हैं.

लद्दाख के रेजांग ला में भारतीय सेनाओं ने कब्ज़े की चीनी कोशिशें नाकाम कर दी हैं लेकिन लगता है जिनपिंग शासन ने मन बना लिया है कि वो भारत को लगातार उलझाए रखेगा. अब हलचल अरुणाचल प्रदेश में है. चीन की सेनाएं LAC पर गुपचुप किलेबंदी करने में लगी हैं, हालांकि भारतीयों ने पीपल्स लिबरेशन आर्मी के मूवमेंट को नोटिस कर लिया है. परेशानी की बात है कि चीन जहां एक्टिव है वो जगह सरहद से बस बीस किलोमीटर दूर है. आशंका ये है कि घुसपैठ हो सकती है और किसी खाली जगह पर चीनी सैनिक डेरा डालकर बैठ सकते हैं. आजतक रेडियो रिपोर्टर मंजीत नेगी ने विस्तार में चीनी जमावड़े पर बात की.

कोविड 19 पर वैक्सीन तो आई नहीं, अलबत्ता एक के बाद एक रिसर्च आ रही हैं. नई बात सामने आई है नीदरलैंड्स से. JAMA यानी जर्नल ऑफ़ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन नेटवर्क में एक स्टडी पब्लिश हुई है. इसमें साइटोकाइन स्टॉर्म थ्योरी के बारे में बताया गया है. पहले साइटोकाइन स्टॉर्म को कोविड-19 मरीज़ों की मौत में बड़ा कारण माना जा रहा था लेकिन अब ये रिसर्च उसे खारिज़ कर रही है. समझिए कि साइटोकाइन क्या है और इस पर आई स्टडी क्या कहती है. 

साथ ही सुनिए कि आज की तारीख 16 सितंबर इतिहास में क्या अहमियत रखती है. देश विदेश के अखबारों का हाल भी पांच मिनट में सुनिए और खुद को कीजिए एकदम अपडेट. इतना कुछ महज़ आधे घंटे में सुनिए न्यूज़ पॉडकास्ट 'आज का दिन' में नितिन ठाकुर के साथ. 

'आज का दिन' सुनने के लिए यहां क्लिक करें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें