scorecardresearch
 
न्यूज़

हर तरफ नोट ही नोट..बंगाल के मंत्री की करीबी के घर ED की रेड, Photos

कमरे में लगा नोटों का अंबार
  • 1/8

पश्चिम बंगाल में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्रवाई की है. यहां ममता सरकार के एक मंत्री के करीबी के घर से करोड़ों रुपये बरामद हुए हैं. रेड के बाद जो तस्वीरें सामने आई हैं, उनमें रूम के अंदर सिर्फ नोट ही नोट नजर आ रहे हैं.

 लगा नोटों का अंबार
  • 2/8

पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर पर ईडी ने छापा मारा है. इस कार्रवाई में 20 करोड़ रुपये बरामद किए गए हैं.

लगा नोटों का ढेर
  • 3/8

ईडी ने ये छापा पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड भर्ती घोटाले से जुड़ी जांच को लेकर मारा. ईडी ने पार्थ चटर्जी, परेश सी. अधिकारी, मानिक भट्टाचार्य, अर्पिता मुखर्जी और अन्य के परिसरों और घरों पर छापा मारा है.

पार्थ चटर्जी
  • 4/8

पार्थ चटर्जी, ममता सरकार में वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के साथ-साथ संसदीय कार्य मंत्रालय, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी का प्रभार संभालते हैं. पूर्व में वह शिक्षा मंत्रालय के प्रभारी थे.

अर्पिता के खिलाफ पुख्ता सबूत
  • 5/8

ईडी को अर्पिता के खिलाफ कुछ पुख्ता सबूत मिले थे जिसके बाद उनके घर पर रेड मारी गई. कई घंटों की रेड में नोटों का अंबार सामने आ गया है. अभी भी जांच एजेंसी उनके घर पर ही मौजूद है.

पार्थ के घर 11 घंटे से ईडी की टीम
  • 6/8

पार्थ चटर्जी के घर पर पिछले 11 घंटे से भी ज्यादा समय से ईडी की टीम बनी हुई है. अर्पिता के अलावा राज्य के शिक्षा मंत्री माणिक भट्टाचार्य, आलोक कुमार सरकार, कल्याण मॉय गांगुली जैसे लोगों के यहां भी छापामार कार्रवाई चल रही है. इन सभी का बंगाल शिक्षा भर्ती घोटाले में कनेक्शन सामने आया है.

मिले 20 मोबाइल फोन
  • 7/8

छापे में ईडी को सिर्फ कैश ही नहीं, बल्कि 20 मोबाइल फोन भी बरामद हुए. नोटों की गिनती करने के लिए ईडी ने बैंक अधिकारियों की मदद ली. हालांकि अभी ये साफ नहीं है कि अर्पिता इन फोन का क्या करती थीं.

मिले फर्जी कंपनियों के दस्तावेज
  • 8/8

ईडी को छापे के दौरान कई दस्तावेज, फर्जी कंपनियों के रिकॉर्ड, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, विदेशी मुद्रा और सोना भी बरामद किया है. कलकत्ता उच्च न्यायालय ने हाल ही में शिक्षा भर्ती घोटाले को सीबीआई जांच के निर्देश दिए थे, लेकिन मनी लॉन्ड्रिंग का मामला सामने आने के बाद ईडी भी जांच कर रही है.