scorecardresearch
 

पैरोल पर जेल से बाहर आए संजय दत्त

1993 के मुंबई बम विस्फोटों के मामले में यरवदा जेल में बंद अभिनेता संजय दत्त शनिवार को पैरोल पर बाहर आ गए. संजय दत्त को पत्‍नी मान्‍यता का इलाज कराने के लिए महीने भर का पैरोल मिला है.

1993 के मुंबई बम विस्फोटों के मामले में यरवदा जेल में बंद अभिनेता संजय दत्त शनिवार को पैरोल पर बाहर आ गए. संजय दत्त को पत्‍नी मान्‍यता का इलाज कराने के लिए महीने भर का पैरोल मिला है.

वर्ष 1993 के धमाकों में इस्तेमाल होने वाले हथियारों के जखीरे में शामिल अवैध हथियार अपने पास रखने पर मिली पांच साल की सजा की शेष अवधि जेल में बिता रहे दत्त की पैरोल 6 दिसंबर को मंजूर हो गई थी.

मुन्‍ना के पैरोल पर बखेड़ा
एक फिल्म की स्क्रीनिंग और एक मशहूर हस्ती की जन्मदिन पार्टी में शामिल हो रही मान्यता की तस्वीरें मीडिया में आने से दत्त के उन दावों पर सवाल उठने लगे, जिसमें उन्होंने मान्यता की सेहत खराब होने की बात कही है. दत्त को एक माह से कुछ ही अधिक समय में दूसरी बार पैरोल मिलने से एक बड़ा विवाद पैदा हो गया और महाराष्ट्र सरकार को जांच का आदेश देना पड़ा. पक्षपात के आरोपों और यरवादा जेल के बाहर विरोध प्रदर्शन बढ़ने के बाद गृहमंत्री आर. आर. पाटिल ने अभिनेता संजय दत्त की पैरोल को स्वीकृति दिए जाने के आधार की जांच के आदेश दे दिए हैं.

'संजय दत्त को जेल में परोसी जाती है शराब'
महाराष्‍ट्र विधानसभा का शीत सत्र खत्‍म होने के अगले ही दिन संजय दत्त जेल से बाहर आ गए हैं. गौरतलब है बीजेपी नेता विनोद तावड़े ने मुंबई ब्लास्ट केस में पांच साल की सजा काट रहे संजय दत्त को जेल से मिल रही छुट्टी पर सवाल उठाते हुए उन्हें जेल के अंदर शराब परोसे जाने का सनसनीखेज खुलासा किया था. महाराष्ट्र विधान परिषद में नेता विपक्ष तावड़े ने कहा था कि संजय दत्त को पुणे की यरवडा जेल में बियर और रम की सप्लाई भी की जाती है. उन्होंने इसके पीछे पुलिस अधिकारियों का हाथ बताया था.

गौरतलब है कि इससे पहले संजय दत्त ने 15 दिनों का फरलो (छुट्टी) भी लिया था, जिसे मेडिकल आधार पर अक्‍टूबर में और 15 दिनों के लिए बढ़वा लिया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें