scorecardresearch
 

1993 मुंबई ब्‍लास्‍ट: आतंकी याकूब मेमन की फांसी पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1993 में मुंबई में हुए श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोट मामले में मुख्य षड्यंत्रकारी और मौत की सजा का सामना कर रहे याकूब अब्दुल रजाक मेमन की फांसी पर आज रोक लगा दी.

X
याकूब मेमन याकूब मेमन

सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1993 में मुंबई में हुए श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोट मामले में मुख्य षड्यंत्रकारी और मौत की सजा का सामना कर रहे याकूब अब्दुल रजाक मेमन की फांसी पर आज रोक लगा दी.

न्यायमूर्ति जेएस खेहर और न्यायमूर्ति सी नागप्पन की पीठ ने महाराष्ट्र सरकार और अन्य को मेमन के आग्रह पर नोटिस जारी कर कहा कि इस दौरान मौत की सजा की प्रक्रिया पर रोक रहेगी. न्यायालय ने मेमन का आग्रह संविधान पीठ को भी भेज दिया, जिसमें कहा गया है कि मौत की सजा के मामलों में पुनरीक्षण याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट को कक्ष में नहीं बल्कि खुली अदालत में सुनवाई करनी चाहिए.

मेमन की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता उपमन्यु हजारिका ने कहा कि वर्ष 2000 में हुए लालकिला हमला मामले में मौत की सजा का सामना कर रहे दोषी मोहम्मद आरिफ का ऐसा ही आग्रह संविधान पीठ को भेजा गया था. तब न्यायालय ने कहा कि यह याचिका भी लालकिला हमला मामले के दोषी के आग्रह के साथ नत्थी कर दी जाए और उसके साथ ही इसकी सुनवाई भी की जाए.

न्यायमूर्ति पी सदाशिवम और बीएस चौहान की पीठ ने 21 मार्च 2013 को मेमन की मौत की सजा बरकरार रखी थी. पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और भगोड़े आतंकी टाइगर मेमन के भाई याकूब मेमन को 1994 में काठमांडू एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था.

2007 में टाडा स्‍पेशल कोर्ट ने मेमन को षड्यंत्र रचने और धमाके से जुड़े अन्य आतंकियों को पैसा मुहैया कराने का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा दी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें