scorecardresearch
 

सोनिया से मिलकर महाराष्ट्र की पिच पर शरद पवार ने फेंकी गुगली, शिवसेना की टेंशन बढ़ी

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर अब भी सस्पेंस बरकार है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार जब कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने 10 जनपथ पहुंचे तो लगा कि आज शायद महाराष्ट्र का गतिरोध खत्म हो जाए. लेकिन सोनिया गांधी से मीटिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में शरद पवार ने यह कहकर शिवसेना की उम्मीदों पर एक तरह से पानी फेर दिया कि अब तो सरकार बन ही जाएगी.

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर सस्पेंस बरकरार महाराष्ट्र में सरकार गठन पर सस्पेंस बरकरार

  • सरकार गठन को लेकर उत्साहित शिवसेना
  • शरद पवार ने नहीं बताई कोई स्पष्ट बात
  • सरकार सिर्फ हमारी जिम्मेदारी नहीं- राउत

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर अब भी सस्पेंस बरकरार है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार सोमवार को जब कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने 10 जनपथ पहुंचे तो लगा कि आज शायद महाराष्ट्र का गतिरोध खत्म हो जाए. लेकिन सोनिया गांधी से मीटिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में शरद पवार ने यह कहकर शिवसेना की इन उम्मीदों पर एक तरह से पानी ही फेर दिया कि अब तो सरकार बन ही जाएगी.

शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत लगातार सरकार गठित किए जाने का दावा कर रहे हैं. वो बोले चुके हैं, 'हम सदन में 170 विधायकों के आंकड़े के साथ बहुमत सिद्ध करेंगे. शरद पवार अनुभवी हैं, वो सरकार चाहते हैं. इसलिए उनका अनुभव काम आएगा. शरद पवार को लेकर हमारे मन को कोई संशय नहीं हैं. एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर हम अगले पांच साल तक सरकार चलाएंगे.'

सोनिया गांधी से मीटिंग के बाद शरद पवार ने कहा कि कांग्रेस और एनसीपी के नेता हालात का जायजा लेने के अलावा दोनों पार्टियों के नेताओं से बातचीत करेंगे. अब तक सरकार गठन को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई. हमने अन्य मुद्दों पर बातचीत नहीं की. हम स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे. सभी नेताओं की राय लेने के बाद ही आगे का रास्ता तय करेंगे.

शरद पवार ने यह भी कहा कि स्वाभिमानी शेतकरी संगठन भी हमारे साथ है. उनके विधायक जीते हैं. हम उन्हें भी दरकिनार नहीं कर सकते. पवार ने कहा, हम सभी दलों को भरोसे में लेंगे.

शिवसेना के लिए चिंता की बात!

सियासत के चतुर खिलाड़ी माने जाने वाले शरद पवार सरकार गठन को लेकर उत्साहित शिवसेना को अपनी 'गुगली' से चित करेंगे क्या? एनसीपी, कांग्रेस के साथ सरकार गठन के सपने देख रही शिवसेना की चिंताएं शरद पवार की सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद और बढ़ गईं होंगी. शिवसेना की यह चिंता दिल्ली में देर शाम शरद पवार से मुलाकात के बात संजय राउत की बातों में साफ नजर आई.

शरद पवार से मुलाकात के बाद संजय राउत ने कहा कि सरकार गठन की जिम्मेदारी सिर्फ हमारी नहीं है. जिनकी जिम्मेदारी है वो (बीजेपी) पहले ही उससे दूर भाग गए. लेकिन मुझे पूरा भरोसा है कि हम जल्द ही सरकार बना ले लेंगे. दिलचस्प बात यह है कि एनसीपी और कांग्रेस, शिवसेना से सरकार को लेकर बात कर रही हैं लेकिन सोनिया से मुलाकात से पहले ही शरद पवार ने कह दिया था कि भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और अब उन्हें अपने रास्ते चुनने होंगे.

करीब आए शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस

21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनावों को बीजेपी-शिवसेना के गठबंधन ने साथ मिलकर लड़ा था. 24 अक्टूबर को आए नतीजों के मुताबिक 288 सीटों में से बीजेपी 105 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी, जबकि शिवसेना 56 सीटें जीत पाई थी. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पांच साल में आधी-आधी अवधि के लिए मुख्यमंत्री का पद मांगा, जिसे बीजेपी ने ठुकरा दिया और गठबंधन टूट गया.

बीजेपी के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस्तीफा दे दिया जिसके बाद राज्यपाल ने शिवसेना और फिर एनसीपी से पूछा कि क्या वे सरकार बना सकते हैं या नहीं. लेकिन जब कोई पत्र नहीं आया, तो राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफ़ारिश कर दी. इस समय महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू है.

रामदास अठावले का फॉर्मूला

इस बीच, सोमवार को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री रामदास अठावले ने शिवसेना नेता संजय राउत को सरकार गठन का एक और नया फॉर्मूला सुझाया. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक अठावले ने बताया, मैंने संजय राउत से बात की और उन्हें 3 और 2 साल का फॉर्मूला सुझाया. इसके तहत तीन साल मुख्यमंत्री बीजेपी का होगा और 2 साल शिवसेना का. रामदास अठावले के मुताबिक संजय राउत ने कहा कि अगर बीजेपी इस पर हामी भरती है तो शिवसेना विचार कर सकती है. अठावले ने कहा कि वह इस बारे में बीजेपी से बातचीत करेंगे.

बहरहाल, इन सब सियासी घटनाक्रमों के बीच शरद पवार और कांग्रेस के रुख से सियासी गेम थोड़ा पेचिदा हो चला है. अब यह समझना थोड़ा मुश्किल हो गया है कि आखिर शरद पवार के दिल में चल क्या रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें