scorecardresearch
 

EXCLUSIVE: ED करेगा जांच, पनामा पेपर्स से भी जुड़े हैं जाकिर नाइक के तार?

इंडिया टुडे के सूत्रों का दावा है कि ED को इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के खातों में 200 करोड़ रुपये के जमा होने के सबूत मिले हैं. इनमें से 70 करोड़ रुपये हार्मनी मीडिया नाम की प्रोडक्शन कंपनी के नाम पर जमा हुए हैं. बाकी रकम नाइक ने खुद जमा करवाई है.

जाकिर नाइक जाकिर नाइक

विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के छिपे राज आहिस्ता-आहिस्ता सामने आ रहे हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ED) उनके संस्थान इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) को मिले 200 करोड़ रुपये के स्त्रोतों की जांच कर रहा है. ईडी के जांच अधिकारी पनामा पेपर्स के खुलासे में फंसे वाहिदना ग्रुप के साथ जाकिर नाइक के संबंधों की पड़ताल कर रहा है.

इंडिया टुडे के सूत्रों का दावा है कि ED को इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के खातों में 200 करोड़ रुपये के जमा होने के सबूत मिले हैं. इनमें से 70 करोड़ रुपये हार्मनी मीडिया नाम की प्रोडक्शन कंपनी के नाम पर जमा हुए हैं. बाकी रकम नाइक ने खुद जमा करवाई है.

पनामा पेपर्स से लिंक?
पिछले महीने ED ने बांद्रा में वाहिदना ग्रुप के ठिकाने की तलाशी ली थी. बहुत कम लोग जानते हैं कि वीडियो और टीवी सॉफ्टवेयर प्रोडक्शन हाउस का मालिक होने के साथ ही जाकिर नाइक ने रियल स्टेट में भी पैसा लगाया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज़ के दस्तावेज बताते हैं कि नाइक और उनकी पत्नी मार्च 2013 तक लॉन्गलास्ट कंस्ट्रक्शन और राइट प्रॉपर्टी सोल्यूशन्स नाम की 2 कंपनियों के प्रमोटर और डायरेक्टर थे. दस्तावेजों में इस बात का सबूत है कि लॉन्सलास्ट कंस्ट्रक्शन को वाहिदना ग्रुप की ओर से 9 करोड़ रुपये का लोन मिला था.

हालांकि नाइक ने ये लोन लौटा दिये थे. दिलचस्प बात ये है कि दोनों ही कंपनियों ने कागजों में साल 2009 से 2015 के बीच कोई कमाई नहीं दिखाई है. वाहिदना कंपनी को अल्ताफ और अरशद नाम के दो भाई चलाते हैं. अरशद का नाम पनामा पेपर्स में शामिल है. इनमें से अल्ताफ का बयान ED अधिकारियों ने दर्ज कर लिया है. सूत्रों की मानें तो बांद्रा में छापों के दौरान एजेंसी के हाथ कई ऐसे दस्तावेज मिले हैं जो जाकिर के खिलाफ जांच के दायरे को बढ़ा सकते हैं.

नाइक को तीसरा समन
जाकिर नाइक इन दिनों साउदी अरब में हैं. पिछले दिनों ED ने उन्हें तीसरी बार समन भेजा है. इंडिया टुडे को निदेशालय के एक सूत्र ने बताया, '2 बार समन जारी होने के बाद भी जाकिर नाइक जांच से बच रहे हैं. इसलिए उन्हें तीसरा समन भेजा गया है.' इस समन की एक कॉपी उनके बड़े भाई मोहम्मद नाइक को भी भेजी गई है. नाइक को ये समन मेल के जरिये भेजा गया है.

जाकिर नाइक के खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में अब तक 5-6 लोगों से पूछताछ की गई है. इनमें मोहम्मद नाइक और IRF के कुछ कर्मचारियों के अलावा जाकिर के कानूनी सलाहकार शौकत जमाती शामिल हैं. प्रवर्तन निदेशालय जल्द ही जाकिर नाइक की बहन को भी पूछताछ के लिए बुला सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें