scorecardresearch
 
महाराष्ट्र

Cyrus Mistry Death: नहीं रहे टाटा संस के पूर्व चेयरमैन, देखें हादसे की तस्वीरें

Cyrus Mistry Death
  • 1/6

टाटा संस के पूर्व चेयरमैन और बिजनेसमैन साइरस मिस्त्री का एक कार दुर्घटना में निधन हो गया है. बता दें कि साइरस मिस्‍त्री भारतीय मूल के सबसे सफल और ताकतवर कारोबारियों में से एक पलोनजी शापूरजी मिस्‍त्री के बेटे थे. उनका जन्म आयरलैंड में हुआ था.

Cyrus Mistry Death
  • 2/6

मुंबई के पास पालघर में बिजनेसमैन साइरस मिस्त्री का कार दुर्घटना में निधन (Cyrus Mistry Death) हो गया. कार हादसे के बाद मौके पर लोगों की भीड़ लग गई. घटनास्थल पर पहुंचकर कार को रोड से हटाती क्रेन. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे. कार में साइरस मिस्त्री और चार अन्य लोग पालघर की ओर जा रहे थे, तभी उनकी कार दुर्घटना का शिकार हो गई. उनकी कंपनी के निदेशक ने उनकी मौत की पुष्टि की है.

Cyrus Mistry Death
  • 3/6

54 वर्षीय साइरस मिस्‍त्री भारतीय मूल के सबसे सफल और ताकतवर कारोबारियों में से एक पलोनजी शापूरजी मिस्‍त्री के बेटे थे. साइरस मिस्‍त्री का जन्म आयरलैंड में हुआ था. उन्होंने लंदन बिजनेस स्कूल से पढ़ाई की थी. साइरस ने परिवार के पलोनजी ग्रुप में 1991 में काम करना शुरू किया था. पालघर के पास कार हादसा हुआ तो उनकी कार का अगला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया.

Cyrus Mistry Death
  • 4/6

बता दें कि साल 2006 में पालोनजी मिस्त्री के सबसे छोटे बेटे साइरस मिस्त्री टाटा संस के साथ जुड़े थे. इसके बाद दिसंबर 2012 में रतन टाटा की जगह टाटा संस का चेयरमैन बनाया गया था. टाटा संस के चेयरमैन बनाए जाने के 4 साल बाद 2016 में उन्हें अचानक पद से हटा दिया गया था.

Cyrus Mistry Death
  • 5/6

टाटा संस के पूर्व चेयरमैन और उद्योगपति साइरस मिस्त्री 54 साल के थे. मिस्त्री शापूरजी पलोनजी परिवार से थे और टाटा संस में सबसे बड़े शेयरधारक थे. गौरतलब है कि शापूरजी पलौंजी समूह की टाटा संस में 18.37 फीसदी हिस्सेदारी है.

Cyrus Mistry Death
  • 6/6

साल 2006 में पालोनजी मिस्त्री के सबसे छोटे बेटे साइरस मिस्त्री टाटा संस के साथ जुड़े थे. इसके बाद दिसंबर 2012 में रतन टाटा की जगह टाटा संस का चेयरमैन बनाया गया था. बता दें टाटा ग्रुप ने डेढ़ साल की खोज के बाद इस पद के लिए साइरस मिस्‍त्री का चयन किया था. टाटा संस के चेयरमैन बनाए जाने के 4 साल बाद 2016 में उन्हें अचानक पद से हटा दिया गया था. इसके बाद वे टाटा समूह से विवाद को लेकर लगातार चर्चा में बने रहे थे.