scorecardresearch
 

व्यापम आरोपी बीजेपी नेता को लेकर अब पछता रही कांग्रेस

विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी 29-30 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ इलाके के दौरे पर थे. 30 अक्टूबर को इंदौर में कांग्रेस नेताओं ने भाजपा से जुड़े 3 नेताओं को राहुल के सामने कांग्रेस की सदस्यता दिलाई. इनमें तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा और दतिया जिले से विधायक रहे कमलापत आर्य के अलावा मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष रहे गुलाब सिंह किरार भी शामिल थे.

गुलाब सिंह किरार. गुलाब सिंह किरार.

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के पहले कई नेता पार्टी बदल चुके हैं. इसी कड़ी में व्यापम घोटाले के आरोपी और बीजेपी के पूर्व नेता गुलाब सिंह किरार हाल ही में राहुल गांधी के सामने कांग्रेस में शामिल हुए थे, लेकिन बवाल बढ़ने के बाद अब मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेताओं ने ही उनको पार्टी में लेने से इनकार कर दिया है.

प्रदेश कांग्रेस की मीडिया प्रभारी शोभा ओझा का कहना है कि गुलाब सिंह किरार ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलने आए थे, लेकिन उन्हें पार्टी में नहीं लिया गया है.

यही नहीं, कांग्रेस पार्टी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से वह ट्वीट भी डिलीट कर दिया है जिसमें गुलाब सिंह किरार के पार्टी में शामिल होने की बात कही गई थी.

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी 29-30 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ इलाके के दौरे पर थे. 30 अक्टूबर को इंदौर में कांग्रेस नेताओं ने भाजपा से जुड़े 3 नेताओं को राहुल के सामने कांग्रेस की सदस्यता दिलाई.

इनमें तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा और दतिया जिले से विधायक रहे कमलापत आर्य के अलावा मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष रहे गुलाब सिंह किरार भी शामिल थे.

शिवराज के करीबी थे किरार...

राहुल के सामने किरार को पार्टी में लिए जाने से कांग्रेस में बवाल मच गया. किरार समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे गुलाब सिंह किरार शिवराज सिंह के करीबी तो रहे हैं, लेकिन व्यापम घोटाले के आरोपी भी हैं. जैसे ही यह जानकारी प्रदेश के अन्य नेताओं को हुई, उन्होंने विरोध किया. बीजेपी भी उनसे किनारा करती आ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें