scorecardresearch
 

दिग्विजय सिंह की हार के बाद समाधि लेना चाहते हैं 'मिर्ची बाबा', BJP ने बताया नाटक

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार रहे दिग्विजय सिंह की हार के बाद 5 क्विंटल मिर्ची से यज्ञ करने वाले बाबा वैराग्यानंद ने समाधि लेने की इच्छा जताई है.

बाबा वैराग्यानंद ने समाधि लेने की इच्छा जताई बाबा वैराग्यानंद ने समाधि लेने की इच्छा जताई

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार रहे दिग्विजय सिंह की हार के बाद 5 क्विंटल मिर्ची से यज्ञ करने वाले बाबा वैराग्यानंद ने समाधि लेने की इच्छा जताई है.

दरअसल, बाबा वैराग्यानंद ने लोकसभा चुनाव में दिग्विजय सिंह की जीत के लिए हवन किया था और उनकी जीत का दावा करते हुए कहा था कि भोपाल से दिग्विजय सिंह की जीत और बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा की हार सुनिश्चित है. इसी दौरान अति आत्मविश्वास से भरे बाबा वैराग्यानंद ने यह तक कह दिया था कि दिग्विजय सिंह यदि चुनाव हारे तो वह समाधि ले लेंगे.

चुनाव में दिग्विजय सिंह की हार के बाद से बाबा वैराग्यानंद अंडरग्राउंड हो गए थे. इसके बाद शुक्रवार को अचानक उनके नाम से एक चिट्ठी सामने आई, जिसमें उन्होंने भोपाल कलेक्टर से अपना संकल्प पूरा करने के लिए समाधि की इजाजत मांगी है.

उन्होंने चिट्ठी में लिखा है कि 'दिग्विजय सिंह भोपाल संसदीय क्षेत्र से पराजित हो चुके हैं और मैं अपने संकल्प पर दृढ़संकल्पित रहते हुए अपने संकल्प को पूर्ण करना चाहता हूं'. चिट्ठी में आगे बाबा वैराग्यानंद ने कहा कि ' मैं 16 जून दोपहर को 2 बजकर 11 मिनट में समाधि लेना चाहता हूं ताकि अपना संकल्प पूर्ण कर सकूं और मुझे पूरा विश्वास है कि प्रशासन मेरी धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुए समाधि के लिए जगह निर्धारित करके देगा'.

बीजेपी ने बताया नाटक

बाबा वैराग्यानंद की समाधि लेने की बात को बीजेपी ने नाटक करार दिया है. बीजेपी ने कहा कि भोपाल की जनता समझदार है इसलिए कांग्रेस प्रत्याशी के प्रचार में आए कम्प्यूटर बाबा और वैराग्यानंद बाबा को वोटों के जरिए सबक सिखाकर जनता से साफ कर दिया है कि वो ऐसे बाबाओं के झांसे में नहीं आने वाली है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें