scorecardresearch
 

उज्जैन सिंहस्थ कुंभ घोटाला मामले में FIR, अतिरिक्त भुगतान करने के मिले सबूत

मध्य प्रदेश के उज्जैन में साल 2016 में हुए सिंहस्थ कुंभ मेले में शौचालय निर्माण और स्ट्रीट लाइट लगाने में हुए कथित घोटाले में राज्य की आर्थिक अपराध शाखा ने एफआईआर दर्ज कर ली है.

आर्थिक अपराध शाखा ने दर्ज की एफआईआर (फोटो-रवीश पाल सिंह) आर्थिक अपराध शाखा ने दर्ज की एफआईआर (फोटो-रवीश पाल सिंह)

  • उज्जैन सिंहस्थ कुंभ घोटाला मामले में एफआईआर दर्ज
  • करोड़ों रुपयों का अतिरिक्त भुगतान करने के मिले सबूत

मध्य प्रदेश के उज्जैन में साल 2016 में हुए सिंहस्थ कुंभ मेले में शौचालय निर्माण और स्ट्रीट लाइट लगाने में हुए कथित घोटाले में राज्य की आर्थिक अपराध शाखा यानी EOW ने शनिवार को एफआईआर दर्ज कर ली है. ईओडब्ल्यू के डीजी केएन तिवारी ने एफआईआर दर्ज करने की जानकारी दी. इस घोटालों में कई करोड़ों रुपयों का अतिरिक्त भुगतान किए जाने के भी सबूत मिले हैं.

डीजी ईओडब्ल्यू के मुताबिक सिंहस्थ कुंभ मेले 2016 में अस्थाई शौचालय निर्माण में 1 करोड़ 32 लाख रुपए के अतिरिक्त भुगतान के सबूत मिले हैं. इसके अलावा सिंहस्थ क्षेत्र में LED वेपर लैंप लगाने में भी 3 करोड़ रुपए का अतिरिक्त पेमेंट किया गया.

डीजी केएन तिवारी ने बताया कि इन दोनों मामलों में उज्जैन नगर पालिक निगम के अफसरों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की गई है. इसके अलावा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी यानी पीएचई विभाग के तहत पाइपलाइन बिछाने के एक मामले में प्राथमिक जांच भी शुरू की गई है.

डीजी तिवारी के मुताबिक जो काम 15 करोड़ रुपए में हो सकता था, उसके लिए 50 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया. यानी की 35 करोड़ रुपये का अतिरिक्त भुगतान इस मामले में किया गया है. वहीं फर्जी मस्टर रोल बनाने और उसमें 75 लाख रुपये के अतिरिक्त भुगतान मामले में भी प्राथमिक जांच शुरू की गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें