scorecardresearch
 

हनीट्रैप मामले में IPS अफसरों में बयानबाजी, DGP को हटाने की मांग

मध्य प्रदेश में हाल ही में हनीट्रैप के मामले से सनसनी मच गई थी. जिसके बाद अब मध्य प्रदेश में हनीट्रैप मामले को लेकर दो बड़े पुलिस अधिकारी सार्वजनिक रूप से भिड़ गए हैं.

डीजी पुरुषोत्तम शर्मा की DGP को हटाने की मांग (फोटो-रवीश पाल सिंह) डीजी पुरुषोत्तम शर्मा की DGP को हटाने की मांग (फोटो-रवीश पाल सिंह)

  • MP हनीट्रैप मामले में IPS अफसरों में बयानबाजी
  • डीजी पुरुषोत्तम शर्मा की DGP को हटाने की मांग

मध्य प्रदेश में हाल ही में हनीट्रैप के मामले से सनसनी मच गई थी. जिसके बाद अब मध्य प्रदेश में हनीट्रैप को लेकर दो बड़े पुलिस अधिकारी सार्वजनिक रूप से भिड़ गए हैं.

हनीट्रैप मामले में साइबर और एसटीएफ के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा ने मध्य प्रदेश पुलिस के डीजीपी वीके सिंह पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं. डीजीपी वीके सिंह की भूमिका पर सवाल उठाते हुए उन्होंने सरकार को सलाह दी है कि हनीट्रैप मामले में SIT जांच के सुपर विजन से डीजीपी वीके सिंह को हटाकर पुलिस मुख्यालय से बाहर के किसी डीजी स्तर के अधिकारी को ये जिम्मेदारी सौंपी जाए.

वहीं पुरुषोत्तम शर्मा ने ये भी कहा कि एसटीएफ और साइबर का काम बेहद जोखिम भरा होता है. ऐसे में उनके ठिकाने को सार्वजनिक करना उनकी जान को खतरे में डालने बराबर है. पुरुषोत्तम शर्मा ने यह भी कहा कि ये विवाद पुलिस परिवार का है और इसलिए मीडिया में ज्यादा बात ना करते हुए वो आईपीएस एसोसिएशन के सामने ये सारी बातें रखेंगे.

बता दें कि डीजीपी वीके सिंह ने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में किराए पर लिए गए सायबर सेल के गेस्टहाउस को खाली करने के आदेश दिए थे. जिसके बाद ही ये पूरा मामला शुरू हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें