scorecardresearch
 

मध्य प्रदेश चुनाव 2018: ग्वालियर दक्षिण पर कांग्रेस का कब्जा, प्रवीण पाठक जीते

मध्य प्रदेश में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव 2018 के बाद मतगणना पूरी हो चुकी है. प्रदेश की ग्वालियर दक्षिण सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नारायण सिंह कुशवाहा और कांग्रेस के प्रवीण पाठक के बीच मुकाबला रहा. नतीजों में कांग्रेस के प्रवीण पाठक विजयी घोषित किए गए.

कांग्रेस की जीत का जश्न मनाते कार्यकर्ता (फोटो- रायटर्स) कांग्रेस की जीत का जश्न मनाते कार्यकर्ता (फोटो- रायटर्स)

मध्य प्रदेश में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव 2018 के बाद मतगणना पूरी हो चुकी है. प्रदेश की ग्वालियर दक्षिण सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नारायण सिंह कुशवाहा और कांग्रेस के प्रवीण पाठक के बीच मुकाबला रहा. नतीजों में कांग्रेस के प्रवीण पाठक विजयी घोषित किए गए.

इस सीट से पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी के नारायण सिंह कुशवाहा विधायक चुने गए थे. इस क्षेत्र में कुशवाहा समाज का ही बोलबाला है.

Election Results 2018 Live Updates: आज फैसले का दिन

2013 में विधानसभा की क्या थी तस्वीर

मध्य प्रदेश विधानसभा की 230 सीटों में से 35 सीट अनुसूचित जाति जबकि 47 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं. 148  गैर-आरक्षित सीटें हैं. 2013 में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने 165 सीटों पर जीत हासिल कर राज्य में लगातार तीसरी बार सरकार बनाई थी, जबकि कांग्रेस को 58 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था. वहीं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने 4 जबकि 3 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की थी.

ग्वालियर दक्षिण में क्या थे 2013 और 2008 के नतीजे

मध्य प्रदेश की ग्वालियर दक्षिण विधानसभा सीट पर सत्ताधारी पार्टी बीजेपी का कब्जा है. बीजेपी के नारायण सिंह कुशवाहा यहां के विधायक हैं.  नारायण सिंह कुशवाहा तीन बार से यहां के विधायक हैं. 2013 में उन्होंने कांग्रेस के रमेश अग्रवाल को हराया था. इस चुनाव में नारायण सिंह कुशवाहा को जहां 68627 वोट मिले थे, तो वहीं कांग्रेस के रमेश अग्रवाल को 52360 वोट मिले थे.

Madhya Pradesh Election Results Live Updates: देखें हर सीट का हाल

अगर 2008 चुनाव की बात करें तो नारायण सिंह कुशवाहा इस बार भी कामयाब हुए थे. उन्होंने कांग्रेस की रश्मि पवार शर्मा को हराया था. कुशवाहा को जहां 40061 वोट मिले थे, तो वहीं रश्मि को 32316 वोट मिले थे. 2008 से पहले ग्वालियर दक्षिण सीट (लश्कर पश्चिम) नाम से जानी जाती थी. सबसे पहले 1984 में कांग्रेस ने इस सीट से कुशवाहा उम्मीदवार उतारा था. तब कांग्रेस के कामता प्रसाद कुशवाह ने बीजेपी शीतला सहाय को हराया था.

 

कितने लोगों ने किया मताधिकार का प्रयोग

चुनाव आयोग के मुताबिक 2018 में मध्य प्रदेश में कुल 5,03,94,086 मतदाता हैं जिनमें महिला मतदाताओं की संख्या 2,40,76,693 और पुरुष मतदाताओं की संख्या 2,62,56,157 रही. पुरुष मतदाताओं  का वोटिंग प्रतिशत 75.98 रहा तो वहीं महिला मतदाताओं का वोटिंग प्रतिशत 74.03 रहा. इस बार मध्य प्रदेश में 75.05 फीसदी मतदान हुआ. 2013 में 72.07 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था.

वोटिंग में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी

चुनाव आयोग के मुताबिक इस बार मध्य प्रदेश में 75.05 फीसदी मतदान हुआ. जबकि 2013 में 72.07 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस बार महिलाओं का मतदान प्रतिशत पिछले चुनाव के मुकाबले करीब 4 फीसदी बढ़कर 74.03 प्रतिशत रहा. 2013 में महिलाओं का मतदान प्रतिशत 70.11 रहा था.

इसके पहले कैसा रहा है वोटिंग का प्रतिशत

1990 में स्व. सुंदरलाल पटवा के नेतृत्व में बीजेपी मैदान में उतरी और 4.36 फीसदी वोट बढ़ गए. तत्कालीन कांग्रेस की सरकार को हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद 1993 में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस चुनाव में उतरी तो 6.03 प्रतिशत मतदान बढ़ा और बीजेपी की पटवा सरकार हार गई थी.

वहीं, 1998 में वोटिंग प्रतिशत 60.22 रहा था जो 1993 के बराबर ही था. उस वक्त दिग्विजय सिंह की सरकार बनी. लेकिन 2003 में उमा के नेतृत्व में बीजेपी सामने आई और दिग्विजय सिंह की 10 साल की सरकार सत्ता से बाहर हो गई. उस वक्त भी 7.03 प्रतिशत वोट बढ़े थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें