scorecardresearch
 

MP:बीजेपी का गढ़ है देवास सीट, 1990 से नहीं हारी यहां पर चुनाव

देवास विधानसभा सीट बीजेपी का गढ़ है. इस सीट पर बीजेपी 1990 से लगातार जीत दर्ज करते आई है. फिलहाल गायत्री राजे यहां की विधायक हैं.

बीजेपी (फाइल फोटो) बीजेपी (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश की देवास विधानसभा सीट राज्य की अहम सीट में से एक है. देवास जिले के अंतर्गत 5 विधानसभा सीटें आती हैं. पांचों ही सीटों पर बीजेपी का कब्जा है. देवास राज्य के मशहूर शहरों में से एक है.

राज्य की राजधानी भोपाल से यह ज्यादा दूर नहीं है, जबकि इंदौर से यह शहर करीब 35 किमी की दूरी पर है. देवास में बैंक नोट प्रेस भी है. आर्थिक व्यय विभाग की औद्योगिक इकार्इ बैंक नोट प्रेस, देवास की संकल्पना 1969 में की गर्इ और 1974 में इसकी स्थापना हुर्इ.

देवास के सियासी इतिहास की बात करें तो यह विधानसभा सीट 1957 में वजूद में आई. 1962 तक यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी. परिसीमन के बाद यह सीट सामान्य सीट हो गई है.

बीजेपी का गढ़ है यह सीट

यह सीट बीजेपी का गढ़ है, हालांकि कभी देवास विधानसभा सीट कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थी. बीजेपी इस सीट पर 1990 से लगातार जीत दर्ज करते आई है. यानी पिछले 7 चुनावों में बीजेपी को यहां जीत मिली है. कांग्रेस को आखिरी बार इस सीट पर 1985 में जीत मिली थी.

साल 1990 से 2013 तक इस सीट पर एक ही उम्मीदवार का कब्जा रहा है. बीजेपी के युवराज तुकोजीराव पंवार ने इस सीट पर लगातार जीत दर्ज की. हालांकि 2015 में इस सीट पर उपचुनाव जिसमें बीजेपी को फिर जीत मिली.बीजेपी की गायत्री राजे ने जीत हासिल की. बता दें कि तुकोजीराव के निधन के बाद इस सीट पर उपचुनाव हुआ था. तुकोजीराव राज्य सरकार में मंत्री भी रह चुके थे. इस सीट पर कांग्रेस को 6 ,जबकि बीजेपी को 7 चुनावों में जीत मिली है.

2015 के उपचुनाव में गायत्री राजे ने कांग्रेस के जय प्रकाश शास्त्री को हराया था. इस चुनाव में गायत्री राजे को 89358 वोट मिले थे तो वहीं जय प्रकाश शास्त्री को 58580 वोट मिले थे.

2013 और 2008 चुनाव के नतीजे

2013 के चुनाव में बीजेपी के तुकोजीराव पंवार ने कांग्रेस की रेखा वर्मा को 50 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था. तुकोजीराव को इस चुनाव में 100660 वोट मिले थे तो वहीं रेखा वर्मा को 50541 वोट मिले थे. 2008 के चुनाव की बात करें तो तुकोजीराव ने इस बार कांग्रेस के हाजीहरुन भाई को 25 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था. तुकोजीराव को इस चुनाव में 59474 वोट मिले थे तो वहीं हाजीहरुन को 34247 वोट मिले थे.

2013 में क्या थे राज्य के चुनावी नतीजे

मध्य प्रदेश में कुल 231 विधानसभा सीटें हैं. 230 सीटों पर चुनाव होते हैं जबकि एक सदस्य को मनोनीत किया जाता है. 2013 के चुनाव में बीजेपी को 165, कांग्रेस को 58, बसपा को 4 और अन्य को तीन सीटें मिली थीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें