scorecardresearch
 

ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- BJP मेरा पुराना घर, कांग्रेस की करनी का 3 नवंबर को मिलेगा जवाब

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि बीजेपी मेरे लिए पुराना घर भी है क्योंकि यह पार्टी मेरी दादी स्वर्गीय राजमाता विजयाराजे सिंधिया द्वारा एक तरीके से स्थापित की गई थी. मेरे पिताजी के राजनीतिक करियर की शुरुआत जनसंघ में हुई थी तो एक तरीके से बहुत से लोगों से पुराना संबंध भी है, तो जरूर में नए घर में आया जरूर हूं.

बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (फोटो-PTI) बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सिंधिया ने बताया कैसे बीते बीजेपी में शुरुआती सात महीने
  • 'आइटम' से लेकर 'गद्दार' तक सिंधिया ने की बेबाकी से बात
  • दलित महिला के अपमान पर कमलनाथ-दिग्विजय पर बरसे
  • सिंधिया फिर बोले 'जनता की उपेक्षा हुई तो सड़क पर उतरूंगा'
  • बिसाहू लाल को अपने बयान पर माफी मांगने को कहा

मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव को लेकर कांग्रेस का हाथ छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का दामन थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं. इन रैलियों में वह कांग्रेस के खिलाफ मुखर हैं और जमकर निशाना साध रहे हैं. इस बीच, उन्होंने 'आजतक' से विशेष बातचीत में बीजेपी में अपनी भूमिका और कांग्रेस को लेकर बेबाक राय रखी.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस और बीजेपी में अंतर को जाहिर किया. उन्होंने कहा कि बीजेपी में क्षमता के आधार पर व्यक्ति को अवसर प्रदान किए जाते हैं. अनुशासन के आधार पर पार्टी का कार्यकर्ता, पार्टी के झंडे के आधार पर कार्य करता है. मैं अपना सौभाग्य समझता हूं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में, हमारे अध्यक्ष जेपी नड्डा के नेतृत्व में, गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में मुझे जन सेवा करने के लिए अवसर मिला है. 

बीजेपी मेरे लिए पुराना घर

बीजेपी में कैसे सामंजस्य बैठा रहे हैं? इस सवाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि बीजेपी एक तरीके से मेरे लिए पुराना घर भी है क्योंकि यह पार्टी मेरी दादी स्वर्गीय राजमाता विजयाराजे सिंधिया के द्वारा एक तरीके से स्थापित की गई थी. मेरे पूज्य पिताजी की शुरुआत जनसंघ में हुई थी तो इस तरह बहुत से लोगों से पुराना संबंध भी है, तो जरूर में नए घर में आया जरूर हूं. लेकिन संबंध पुराना है. इसके अलावा नए संबंध अभी और बन रहे हैं पिछले छह-सात महीनों में यही मेरी कोशिश रही है कि धरातल और जमीनी कार्यकर्ता के साथ संबंध बना सकूं. मेरे लिए राजनीति इतनी महत्वपूर्ण नहीं जितनी जनसेवा है, और जन सेवा में मानव-मानव के बीच का रिश्ता सबसे महत्वपूर्ण होता है.

गद्दार कहे जाने पर क्या बोले

कांग्रेस का साथ छोड़ने के बाद गद्दार कहे जाने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि आरोप लगाना बड़ा आसान है. मैं तो यह मानता हूं कि जिस कांग्रेस पार्टी ने मध्य प्रदेश के तीन करोड़ किसानों के साथ गद्दारी की है, जो ऋण माफी का वायदा किया था, जो अमल ना हो पाया, जो मध्य प्रदेश की चार करोड़ महिलाओं के साथ गद्दारी की है, जो लाडली लक्ष्मी और कन्यादान योजना पर अमल न कर पाए, जो मध्य प्रदेश के 500 युवाओं के साथ गद्दारी की है, जो बेरोजगारी भत्ता 4000 रुपये प्रति माह की घोषणा की गई और अमल नहीं किया गया, जो सरकार गद्दारी करेगी, उस सरकार को सड़क पर उतरकर धूल चटाना मैं अपनी जिम्मेदारी समझता हूं.

देखें: आजतक LIVE TV

इमरती देवी पर टिप्पणी से कांग्रेस की सोच पता चली

इमरती देवी विवाद पर बीजेपी नेता ने कहा कि जिस स्तर पर कमलनाथ और कांग्रेस उतरी है, जो निम्न स्तर पर उतरी है यह राजनीति का एक नया इतिहास कांग्रेस रच रही है. एक महिला, जो जमीनी स्तर की ग्रामीण महिला है, जो पग-पग पर चलकर जनसेवा के पथ पर चली है, सरपंच बनी, जिला पंचायत सदस्य बनी, जिला पंचायत अध्यक्ष बनी फिर विधायक बनी उसे आइटम कहना इससे दुर्भाग्यपूर्ण बात नहीं हो सकती. इसकी जितनी निंदा की जाए कम है, यह कांग्रेस की महिलाओं के प्रति सोच दर्शाती है. कांग्रेस की दलितों के प्रति सोच दिखाती है. पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने उन्हें जलेबी कहा, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने 2 साल पहले मीनाक्षी नटराजन को क्या कहा था. मैं वह कहना भी नहीं चाहता, ऐसे अभद्र शब्दों का इस्तेमाल किया था. यह कांग्रेस पार्टी की सोच है, नारी शक्ति और मातृ शक्ति के प्रति. इसका जवाब कांग्रेस पार्टी को 3 तारीख को मिल जाएगा.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह तो कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी मामला है. मैं तो जो जनता की भावना है, वह कह सकता हूं. लेकिन यह कमलनाथ का अहंकार दिखाता है कि जब उनके पूर्व अध्यक्ष कहते हैं कि माफी मांगनी चाहिए. कमलनाथ कहते हैं कि भाड़ में जाओ. इतना अहंकारी नेता तो मध्य प्रदेश में कभी देखा ही नहीं.

बिसाहू लाल को माफी मांगनी चाहिए

बीजेपी के मंत्री बिसाहू लाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह बहुत गलत है. मैं सही को सही कहता हूं, गलत को गलत कहता हूं. मैंने स्वयं वह रिकॉर्डिंग नहीं देखी है, लेकिन आप कह रहे हैं तो मैं 100% कहता हूं कि यह गलत है और उनको माफी मांगनी चाहिए. मैं किसी भी गलत काम की रक्षा नहीं करूंगा और ना ही किसी गलत वक्तव्य को डिफेंड करूंगा. जो गलत है तो गलत है. चाहे वह आप कहें या मैं कहूं. 

बीजेपी में अनदेखी के सवाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मैं यह कह रहा हूं कि जो गद्दारी कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने प्रदेश की जनता से की है, उसका जवाब आपको कमल के फूल के निशान पर वोट देकर शिवराज सिंह, नरेंद्र सिंह और मेरे हाथों को आपको (जनता को) मजबूत करना है. जहां तक उपेक्षा की बात की आपने, मुझे कोई चिंता नहीं है कि मेरी उपेक्षा हो या ना हो, कांग्रेस में या बीजेपी में. लेकिन  बीजेपी में जो सम्मान मुझे मिला है शीर्ष नेतृत्व से, शिवराज सिंह से, हर कार्यकर्ता से मैं अपना सौभाग्य समझता हूं. लेकिन अगर मेरे प्रदेश की जनता की उपेक्षा होगी तो ज्योतिरादित्य सिंधिया जरूर सड़क पर उतरेगा. 

मेरा लक्ष्य जिंदगी में जनसेवा है-सिंधिया

अगर आप केंद्रीय मंत्री बनते हैं? ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मेरा लक्ष्य जिंदगी में जनसेवा है. आप मुझे 20 साल से जानते हैं, मुझे ना कभी कुर्सी का, ना कभी लाल बत्ती का मोह रहा है. मैं 8 साल केंद्र में मंत्री रहा, लेकिन कभी मेरी गाड़ी में लाल बत्ती नहीं रही, ना मध्य प्रदेश में...ना दिल्ली में. मुझे सेवा का मोह है, विकास के लिए उत्सुक हूं और प्रगति के लिए उत्सुक हूं. मेरे लिए राजनीति केवल एक माध्यम है उस जनसेवा के लक्ष्य की पूर्ति करने के लिए. ना मेरे पूज्य पिताजी पद के लिए लालायित थे ना मैं हूं. जनसेवा के लिए जरूर हूं, विकास के लिए जरूर हूं, उसके साथ कोई समझौता नहीं. जितना हो सकेगा उतना मैं करूंगा. 

उपचुनाव में कितनी सीटें बीजेपी को मिलेंगी? इस सवाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूं पर मेरी सोच और विचारधारा है कि हर सीट पर हमारी बहुत अच्छी पोजीशन है और कमल के फूल का परचम लहराएगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें