scorecardresearch
 

तबरेज अंसारी केस: पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर आगे बढ़ेगी जांच, बदल सकती हैं धाराएं

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस में मुख्य सचिव ने कहा है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर जांच आगे बढ़ेगी. मुख्य सचिव का कहना है कि मजिस्ट्रेट के सामने अंतिम चार्जशीट आने के बाद धाराओं में भी बदलाव किया जा सकता है.

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस (फाइल फोटो- Aajtak) तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस (फाइल फोटो- Aajtak)

  • तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में मुख्य सचिव का बयान
  • बोले- पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर जांच आगे बढ़ेगी

तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस में मुख्य सचिव डीके तिवारी ने कहा है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर जांच आगे बढ़ेगी. मुख्य सचिव का कहना है कि मजिस्ट्रेट के सामने अंतिम चार्जशीट आने के बाद धाराओं में भी बदलाव किया जा सकता है.

वहीं, नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर तंज कसते हुए कहा कि झारखंड लॉन्चिंग नहीं, लिंचिंग पैड बन गया है. बता दें कि गुरुवार को रांची में एक सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने झारखंड को देश की बड़ी योजनाओं का लॉन्चिंग पैड बताया था.

गौरतलब है कि इस केस में 11 लोगों के खिलाफ हत्या का आरोप है. हालांकि, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की ओर से ये जानकारी देते हुए बताया गया था कि विसरा रिपोर्ट में तबरेज की मौत का कारण तनाव और दिल का दौरा बताया गया. इसलिए 11 आरोपियों के खिलाफ धारा 302 को हटाकर धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) में तब्दील करने का फैसला किया गया. तब से तबरेज केस सुर्खियों में है.

तबरेज की मौत

राज्य के सरायकेला-खरसावां में 17 जून को भीड़ ने बाइक चोरी के शक में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी की बुरी तरह से पिटाई की गई, जिसके बाद उसकी मौत हो गई. इसके बाद 11 आरोपियों पर धारा 302 के तहत मामला दर्ज हुआ.

हालांकि, बाद में पुलिस ने आईपीसी की धारा 302 के तहत 11 आरोपियों पर दर्ज मामले को खारिज कर दिया.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए कि कहा गया है कि अंसारी की कार्डियक अरेस्ट से मृत्यु हुई और यह कहा गया है कि यह पूर्व नियोजित हत्या का मामला नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें