scorecardresearch
 

'कश्मीरी पंडित बलि का बकरा', आतंकी हमले में जान गंवाने वाले राहुल भट्ट की पत्नी बोलीं

राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने आजतक से खास बातचीत में बताया कि राहुल भट्ट की तैनाती पहले बडगाम डीसी ऑफिस में थी. दो साल पहले उनका ट्रांसफर चडूरा में कर दिया गया. हालांकि, राहुल भट्ट लगातार ट्रांसफर करने की बात कह रहे थे. लेकिन डीसी बडगाम और एसीआर ने इसे नहीं माना.

X
बडगाम में आतंकियों ने कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की गुरुवार को हत्या कर दी. (फोटो क्रेडिट- नीरज कुमार) बडगाम में आतंकियों ने कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की गुरुवार को हत्या कर दी. (फोटो क्रेडिट- नीरज कुमार)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आतंकियों ने बडगाम में राहुल भट्ट की गोली मारकर की हत्या
  • राहुल भट्ट की पत्नी बोलीं- आतंकियों ने नाम पूछा और मार दी गोली

जम्मू कश्मीर में आतंकी लगातार कश्मीरी पंडितों को निशाना बना रहे हैं. गुरुवार को आतंकियों ने बडगाम के चडूरा में तहसील परिसर में घुसकर कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या कर दी. राहुल भट्ट सरकारी कर्मचारी थे. राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने सेना से अपील की है कि उनके पति के हत्यारों को दो दिन में मार गिराया जाए. इतना ही नहीं उन्होंने घाटी में कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा का मुद्दा भी उठाया. 

राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने आजतक से खास बातचीत में कहा, कश्मीरी पंडित सेफ नहीं है. आतंकियों को दहशत फैलाना है, इसलिए वे कश्मीरी पंडितों को टारगेट कर रहे हैं. सरकार को भी हमारी फिक्र नहीं है. हमें बलि का बकरा बनाया जा रहा है. सरकार सुरक्षा के बारे में नहीं सोच रही. 

दो साल से ट्रांसफर मांग रहे थे राहुल भट्ट

उन्होंने बताया, राहुल भट्ट की तैनाती पहले बडगाम डीसी ऑफिस में थी. दो साल पहले उनका ट्रांसफर चडूरा में कर दिया गया. हालांकि, राहुल भट्ट लगातार ट्रांसफर करने की बात कह रहे थे. लेकिन डीसी बडगाम और एसीआर ने इसे नहीं माना. मीनाक्षी ने बताया कि जब कश्मीर में दो टीचर्स की हत्या हुई थी, इसके बाद भी राहुल ने सुरक्षा की बात कहकर ट्रांसफर मांगा था, लेकिन उनका ट्रांसफर नहीं किया गया. 

दो दिन में हत्यारों को मारो- मीनाक्षी

मीनाक्षी ने कहा, आतंकी सरकार की जिद का बदला हमसे ले रहे हैं. राहुल के हत्यारों को दो दिन में मारो. उन्होंने बताया कि आर्मी ने कहा है कि हम दो दिन में आतंकियों को घसीट कर मारेंगे. लेकिन ये लोग पहले ही इन आतंकियों को क्यों नहीं मारते, सिक्योरिटी क्यों नहीं रखते. अब जब मेरे पति की हत्या कर दी गई, अब आतंकियों को मारेंगे. 

 नाम पूछा और मार दी गोली- मीनाक्षी

मीनाक्षी भट्ट ने कहा, चडूरा तहसील परिसर में कोई सुरक्षा नहीं थी. आतंकी आए उन्होंने पूछा कि राहुल भट्ट कौन है और उन पर गोलियां बरसा दीं. उन्हें हिलने का भी मौका नहीं दिया गया. इतना ही नहीं उन्होंने संदेह जताया है कि कोई अंदर का कर्मचारी ही आतंकियों से मिला था, तभी उनके पति का नाम आतंकियों को पता था. 

कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा का उठाया मुद्दा

मीनाक्षी ने कहा, कश्मीर में हालत बहुत खराब है. कश्मीरी पंडितों की कोई सुरक्षा नहीं है. उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा, तहसील में सुरक्षा होती तो मेरे पति की जान बच जाती. उन्होंने बताया कि पति से 10 मिनट पहले ही बात हुई थी, कहा था जल्दी आना बर्थडे में चलना है. उन्होंने कहा था, ठीक है आता हूं. उन्होंने कहा, घाटी में कश्मीरी पंडित सेफ नहीं हैं. कल राहुल की बारी थी, अब किसी और की बारी होगी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें