scorecardresearch
 

'अफगानों के अधिकारों की चिंता, कश्मीरियों के नहीं', महबूबा मुफ्ती ने केंद्र पर लगाया नजरबंद करने का आरोप

महबूबा मुफ्ती ने आरोप लगाया कि कश्मीर में सब कुछ सामान्य होने का दावा फर्जी है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अफगान के लोगों की हक की बात करती है लेकिन कश्मीर के लोगों को हक नहीं देती.

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महबूबा मुफ्ती ने केंद्र पर लगाया नजरबंद करने का आरोप
  • मुफ्ती ने कहा कि कश्मीर में शांति का दावा फर्जी है

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार को घेरते हुए खुद को नजरबंद करने का आरोप लगाया है. महबूबा मुफ्ती ने आरोप लगाया कि कश्मीर में सब कुछ सामान्य होने का दावा फर्जी है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अफगान के लोगों की हक की बात करती है लेकिन कश्मीर के लोगों को हक नहीं देती.

महबूबा मुफ्ती ने लिखा, 'केंद्र सरकार अफगान के लोगों के अधिकारों की चिंता करती है लेकिन जानबूझकर कश्मीर के लोगों को अधिकार नहीं देती. मुझे आज घर में नजरबंद किया गया है. प्रशासन का कहना है कि ऐसा इसलिए किया गया है कि वहां स्थिति ठीक नहीं है. यह सरकार के सब कुछ ठीक होने के दावे की पोल खोलता है.'
 

अपने ट्वीट के साथ महबूबा मुफ्ती ने दो तस्वीरें भी पोस्ट की हैं. इसमें गेट के आगे एक पुलिस वाहन खड़ा दिख रहा है, वहीं दूसरी तस्वीर में गेट पर ताला है.

बता दें कि अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद से ही जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबल अलर्ट पर है. हालांकि, अब स्थिति सामान्य हो रही है. पुलिस ने श्रीनगर और बड़गांव को छोड़कर बाकी जगहों पर इंटरनेट सुविधा फिर से शुरू भी कर दी है. इन दोनों जगहों पर भी मंगलवार रात या बुधवार सुबह तक इंटरनेट सेवा शुरू हो सकती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×