scorecardresearch
 

J-K: हंदवाड़ा एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने हिजबुल आतंकी मेहराजुद्दीन हलवाई को किया ढेर

उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन के सबसे पुराने और शीर्ष कमांडरों में से एक मेहराजुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद को मार गिराया है. सुरक्षाबल इसे बड़ी उपलब्धि के तौर पर देख रहे हैं. आईजीपी कश्मीर ने इस मुठभेड़ की जानकारी देते हुए कहा कि हिजबुल मुजाहिदीन के सबसे पुराने और शीर्ष कमांडरों में से एक मेहराजुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद को ढेर कर दिया गया है. वह कई आतंकी वारदातों में शामिल रहा है. इसलिए यह एक बड़ी कामयाबी है.

एनकाउंटर में हिजबुल आतंकी ढेर (फाइल फोटो) एनकाउंटर में हिजबुल आतंकी ढेर (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मारा गया मेहराजुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद
  • सुरक्षाकर्मियों ने मुठभेड़ में किया ढेर
  • हिजबुल का पुराना आतंकी था उबैद

उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन के सबसे पुराने और शीर्ष कमांडरों में से एक मेहराजुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद को मार गिराया है. सुरक्षाबल इसे बड़ी उपलब्धि के तौर पर देख रहे हैं. आईजीपी कश्मीर ने इस मुठभेड़ की जानकारी देते हुए कहा कि हिजबुल मुजाहिदीन के सबसे पुराने और शीर्ष कमांडरों में से एक मेहराजुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद को ढेर कर दिया गया है. वह कई आतंकी वारदातों में शामिल रहा है. इसलिए यह एक बड़ी कामयाबी है.

मंगलवार देर रात उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा में क्रालगुंड के पाजीपोरा-रेनान इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई. पुलिस सूत्रों ने ट्वीट कर इस मुठभेड़ की जानकारी देते हुए लिखा, हंदवाड़ा में क्रालगुंड के पाजीपोरा-रेनान इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ चल रही है. पुलिस, आर्मी और सीआरपीएफ अपने काम को अंजाम देने में लगे हुए हैं. 

रिपोर्ट के मुताबिक सेना की 32RR और CRPF की 92 BN की संयुक्त टीम इलाके में ऑपरेशन चला रही है. इलाके में आतंकियों के छिपे होने की आशंका के चलते ये ऑपरेशन शुरू किया गया था.

और पढ़ें- पाकिस्तान का आरोप- हाफिज सईद के घर पर हुए ब्लास्ट में रॉ एजेंट का हाथ

पार्ट टाइम टेररिस्ट बनते हैं युवा

कश्मीर में आतंकवाद के खात्मे के लिए सुरक्षा बल लगातार ऑपरेशन ऑलआउट चला रहे हैं तो अब उनके आगे एक नई चुनौती 'पार्ट टाइम टेररिस्ट' बनते जा रहे हैं. पार्ट टाइम आतंकी जिन्हें भाड़े के आतंकी कहा जा रहा है. ये आतंकी न तो सुरक्षा एजेंसियों की लिस्ट में हैं, न ही इन आतंकियों की कोई ग्रेडिंग की गई है. पर ये आतंकी इतने शातिर होते हैं कि अपने हैंडलर्स के कहने पर कहीं भी घटना को अंजाम देने के बाद गायब हो जाते है.

सुरक्षा महकमे के सूत्रों ने आजतक को जानकारी दी है कि सुरक्षाबलों को गुमराह करने के लिए आतंकी इन नए नवेले पार्ट टाइम आतंकवादियों को काम देकर इस्तेमाल करते हैं. ये आतंकी जम्मू कश्मीर में अपने हैंडलर के अनुसार हमले करते हैं और उसके बाद सामान्य जीवन की गतिविधियों में शामिल हो जाते हैं. जानकारी के मुताबिक पिछले 2 माह में श्रीनगर में हुए हमले इसी साजिश का हिस्सा हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें