scorecardresearch
 

हरियाणा में होंगे मध्यावधि चुनाव, ओमप्रकाश चौटाला ने क्यों कही ऐसी बात?

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और इंडियन नेशनल लोक दल (INLD) के प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला (OP Chautala) ने दावा किया है कि जल्द ही हरियाणा में मध्यावधि चुनाव कराए जाएंगे. उन्होंने ये बात आज किसानों से कही.

ओमप्रकाश चौटाला (फाइल फोटो) ओमप्रकाश चौटाला (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पूर्व सीएम ओपी चौटाला का बड़ा बयान
  • बोले- हरियाणा में मध्यावधि चुनाव होंगे

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और इंडियन नेशनल लोक दल (INLD) के प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला (OP Chautala) बुधवार को बहादुरगढ़ में चल रहे किसान आंदोलन (Farmer Protest) को समर्थन देने के लिए पहुंचे. यहां पहुंचकर उन्होंने हरियाणा में मध्यावधि चुनाव होने के आसार जताए. उन्होंने कहा लुटेरों के हाथ में सत्ता चली गई है, जिसने देश को बर्बादी की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है. 

ओपी चौटाला ने हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) और केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) पर हमला बोला. उन्होंने कहा, लुटेरे किस्म के लोगों के हाथ में देश और प्रदेश की सत्ता आ गई है, जिनका काम पैसे बटोरना है. ऐसे कानून बनाते हैं जिससे देश का सारा कुछ चुनिंदा व्यापारियों के पास चला जाता है. देश आज बर्बादी की कगार पर है. उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से हरियाणा में मध्यावधि चुनाव होंगे.

ये लड़ाई किसानों की नहीं, पूरे देश की है

ओमप्रकाश चौटाला ने कहा कि ये लड़ाई केवल किसानों और मजदूरों की नहीं, बल्कि पूरे देश की है और पूरी दुनिया की निगाहें किसान आंदोलन पर हैं. भाजपा सरकार किसान विरोधी है और किसानों के ऊपर सरकार जबरदस्ती ये तीनों काले कानून थोंपना चाहती है. सरकार ने जो किसानों के खिलाफ तीन काले कानून बनाए हैं वो किसानों के लिए सही साबित नहीं होंगे. ये काले कानून हैं जो किसान को बर्बाद कर देंगे. ओमप्रकाश चौटाला ने कहा कि वो हमेशा से किसानों के साथ रहे हैं और रहेंगे.

ये भी पढ़ें-- 200 किसानों को दिल्ली आने की इजाजत, कल जंतर-मंतर पर करेंगे प्रदर्शन

उन्होंने कहा, कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और हमारा देश प्राथमिक तौर पर कृषि आधारित है. अगर किसान खुश हैं तो देश समृद्ध है और अगर खुश नहीं हैं तो राष्ट्र तरक्की नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के कारण आज देश का किसान बर्बादी की कगार पर पहुंच गया है. किसानों की समस्याओं से सरकार को कोई सरोकार ही नहीं है, अगर सरकार को किसानों से थोड़ी भी हमदर्दी होती तो ये तीनों काले कानून बनाए ही नहीं जाते.

चौटाला ने कहा, सरकार कॉरपोरेट घरानों के फायदे वाली नीतियां बनाकर केवल उन्हें ही लाभ पहुंचाना चाहती है. किसानों की फसल को समय पर नहीं खरीदा जाता है. अगर किसी किसान की फसल खरीद भी ली जाती है तो उसके पैसे उसे समय पर नहीं मिल पाते. ऐसे में किसानों को काफी परेशान होना पड़ता है.

बीजेपी-कांग्रेस मिले हुए हैं

इजरायली कंपनी NSO के पेगासस (Pegasus) सॉफ्टवेयर के जरिए फोन टैपिंग के मामले पर चौटाला ने कहा, बीजेपी और कांग्रेस दोनों मिले हुए हैं, ये मुझे कहने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि वो बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ तीसरा मोर्चा बनाएंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें