scorecardresearch
 

हरियाणा खाप ने किया अंसार बर्नी को सम्मानित

हरियाणा में एक सामुदायिक खाप ने अपने तरह की एक पहल करते हुए रविवार को पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी को सम्मानित किया. बर्नी ने भारतीय नाविकों को सोमालियाई समुद्री लुटेरों के चंगुल से छुड़ाने में मदद की थी.

हरियाणा में एक सामुदायिक खाप ने अपने तरह की एक पहल करते हुए रविवार को पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी को सम्मानित किया. बर्नी ने भारतीय नाविकों को सोमालियाई समुद्री लुटेरों के चंगुल से छुड़ाने में मदद की थी.

यहां की गुलिया खाप ने एक गैर सरकारी संगठन 'सेलर रिलीफ फंड' के सहयोग से झज्जर जिले के लाडपुर गांव में बर्नी को सम्मानित किया. यह गांव दिल्ली से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर है. बर्नी को 'वैश्विक स्तर पर सामाजिक क्षेत्र में योगदान' के लिए सम्मानित किया गया.

अंसार बर्नी ने की पाकिस्‍तानी मंत्री के इस्‍तीफे की मांग
ज्ञात हो कि बर्नी ने वर्ष 2011 में छह भारतीय पविवारों को समुद्री लुटेरों के चंगुल में फंसे उनके रिश्तेदारों को छुड़ाकर उनसे मिलवाया था. समुद्री लुटेरों के चंगुल में फंसा नाविक रविंदर गुलिया उसी समुदाय से आता है जिसने बर्नी को सम्मानित किया है.

पाकिस्तान के पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के सलाहकार बर्नी ने जन समुदाय को सम्बोधित करते हुए दोनों देशों के बीच गैर-दोस्ताना और तनावपूर्ण माहौल के लिए भारत व पाकिस्तान के राजनीतिक नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया.

बर्नी ने कहा कि भारत और पाकिस्तान में कुछ राजनेता राजनीतिक लाभ और अपना हित साधने के लिए घटिया राजनीति कर रहे हैं. इन्होंने दो भाइयों के बीच नफरत की लकीर खींच दी है और इसी का नतीजा है कि दोनों मुल्कों के बीच रिश्तों में गैर-मामूली कड़वाहट पैदा हो गई है. उन्होंने कहा कि दोनों मुल्कों के लोग न केवल शांति चाहते हैं, बल्कि एक-दूसरे के करीब भी आना चाहते हैं.

इस अवसर पर हरियाणा की शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल, रोहतक के सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष राजकुमार वेरका भी मौजूद थे. उन्होंने बर्नी को सम्मानित कर दोनों देशों के लोगों के बीच भाईचारा व शांति का संदेश फैलाने के गुलिया खाप के प्रयास की सराहना की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें