scorecardresearch
 

गुजरात विधानसभाः मॉनसून सत्र में BJP सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी कांग्रेस

अगला दो दिन गुजरात की राजनीति में बेहद खास होने वाला है. मंगलवार से विधानसभा में 2 दिवसीय मॉनसून सत्र शुरू होने जा रहा है जहां कांग्रेस सत्तारुढ़ बीजेपी पर आक्रामक हमले के साथ-साथ सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आएगी.

गुजरात विधानसभा (फाइल) गुजरात विधानसभा (फाइल)

गुजरात कांग्रेस मंगलवार से शुरू हो रहे विधानसभा के 2 दिवसीय मॉनसून सत्र को दौरान सत्तारूढ़ बीजेपी को पूरी तरह से घेरने की तैयारी कर चुकी है. विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सदस्यों को लेकर ज्यादा अंतर नहीं है, इसलिए मुकाबला कांटेदार होने के आसार हैं.

18 और 19 सितंबर को 2 दिन के लिए होने वाले गुजरात विधानसभा के इस सत्र को लेकर गुजरात कांग्रेस ने मंगलवार को विधानसभा सत्र के शुरू होने से पहले किसान आक्रोश रैली करने का ऐलान किया है, जिसमें राज्य के किसान गांधीनगर के सत्याग्रह छावनी में एकत्र होंगे और फिर गुजरात विधानसभा की ओर मार्च करेंगे. इसके बाद विधानसभा का घेराव भी करेंगे.

6 विधेयक भी होंगे पेश

हालांकि मंगलवार को सत्र का पहला दिन होने की वजह से गुजरात विधानसभा में शोक प्रस्ताव होगा जिस कारण विधानसभा में कोई कार्यवाही नहीं होगी. दूसरे दिन गुजरात सरकार सदन में अलग-अलग 6 विधेयक पेश करेगी जिस पर बहस होगी.

गुजरात कांग्रेस इस बार राज्य की विजय रुपाणी सरकार को पूरी तरह से घेरने के मूड में है. कांग्रेस नेता परेश धानानी का कहना है कि पार्टी ने बार-बार सरकार के सामने किसानों के विषय को लेकर चर्चा के लिए प्रस्ताव भेजा, लेकिन सरकार ने सिर्फ दो दिन का ही मॉनसून सत्र बुलाया. यह सरकार किसान के मुद्दे पर बात करना ही नहीं चाहती है.

सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरने के अलावा कांग्रेस विधानसभा में राज्य की बीजेपी सरकार के खिलाफ अविश्वास का प्रस्ताव लेकर आएगी. कांग्रेस का दावा है कि रुपाणी सरकार ने गुजरात की जनता में अपना विश्वास खो दिया है और वह सभी मोर्चों पर विफल रही है. सदन में अविश्वास का प्रस्ताव पेश करने के लिए कांग्रेस ने विधानसभा स्पीकर पहले ही नोटिस भेज दिया है.

दूसरी ओर, सत्तारुढ़ बीजेपी ने भी कांग्रेस की ओर से इस राजनीतिक प्रहार को लेकर पूरी तैयारी कर ली है और अपनी ओर से व्यूह रचना बनायी है. बीजेपी ने कांग्रेस को विधानसभा में उसके सवालों का जवाब देने के लिए अपने मंत्री और विधायकों के साथ बैठक की जिसमें विपक्षी दलों की ओर से विधानसभा में होने वाले हमले का जवाब किस तरह दिया जाए इसको लेकर रणनीति बनाई गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें