scorecardresearch
 

शरद पवार की मौजूदगी में शंकर सिंह वाघेला ने थामा NCP का दामन

लोकसभा चुनाव से पहले मंगलवार को गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला ने शरद पवार की मौजूदगी में नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का दामन थाम लिया है.

Shankersinh Vaghela (Courtesy- Twitter) Shankersinh Vaghela (Courtesy- Twitter)

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और यूपीए सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे शंकर सिंह वाघेला ने नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) का दामन थाम लिया है. मंगलवार को उन्होंने शरद पवार की मौजूदगी में अहमदाबाद में नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए. शंकर सिंह वाघेला के एनसीपी में शामिल होने को अपनी डूबती राजनीति को बचाने के आखिरी प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है.

शंकर सिंह वाघेला ने साल 2017 में हुए गुजरात के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का साथ छोड़ दिया था. इसके बाद उन्होंने खुद की जन विकल्प नामक पार्टी बनाई. हालांकि जन विकल्प पार्टी जनता को अपनी ओर आकर्षित करने में विफल रही. विधानसभा चुनाव में आलम यह रहा कि जन विकल्प के सभी उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और जनसंघ से जुड़कर अपने सार्वजनिक और राजनीतिक कैरियर की शुरुआत करने वाले वाघेला ने बीते 2 दशक तक कांग्रेस में रह राजनीति की थी. हालांकि साल 2017 में अहमद पटेल के राज्यसभा सदस्य चुने जाने से पहले शंकर सिंह वाघेला ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया. उन्होंने राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी अहमद पटेल के खिलाफ वोटिंग की थी. इतना ही नहीं, शंकर सिंह वाघेला कांग्रेस के 13 विधायकों को भी अपने साथ ले गए थे.

अब लोकसभा चुनाव से पहले शंकर सिंह वाघेला एनसीपी में शामिल हो गए हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में शंकर सिंह वाघेला एनसीपी के टिकट से मैदान में उतर सकते हैं. शंकर सिंह वाघेला के साथ उनके बेटे महेन्द्र सिंह वाघेला भी एनसीपी में शामिल हुए.

माना जा रहा है कि एनसीपी के साथ जुड़कर वाघेला कांग्रेस से अपने रिश्तों को फिर से मजबूत करने का प्रयास करेंगे. माना यह भी जा रहा है कि एनसीपी गुजरात में इस बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करने जा रही है. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में एनसीपी सुप्रीम शरद पवार की कोशिश गुजरात में भारतीय जनता पार्टी से नाराज चल रहे वोटरों को अपने पाले में लाने की होगी. हालांकि गुजरात में एनसीपी विधानसभा में एनसीपी का सिर्फ एक ही विधायक है. फिलहाल गुजरात में एनसीपी का प्रभाव ज्यादा नहीं हैं. ऐसे में इसका लोकसभा चुनाव जीतना मुश्किल दिख रहा है, लेकिन एनसीपी सूबे में अपने उम्मीदवार खड़े कर कांग्रेस का गेम जरूर बिगाड़ सकती है.

आपको बता दें कि गुजरात में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है. हालिया विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 99 सीटों और कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत दर्ज की थी. गुजरात विधानसभा में कुल 182 सीटे हैं. इस चुनाव में जीत के बाद विजय रुपाणी के नेतृत्व में बीजेपी ने सरकार बनाई. इस चुनाव में बीजेपी को पिछले चुनाव की तुलना में कम सीटें मिलीं और कांग्रेस की सीटों में इजाफा हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें