scorecardresearch
 

केजरीवाल की गलती...जो काम 5 साल में होते है, 10 दिन में करने के कर दिए वादे: शीला दीक्षित

दिल्‍ली की पूर्व मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस की कद्दावर नेत्री शीला दीक्षित ने अरविंद केजरीवाल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस सरकार का कोई भी वादा पूरा नहीं हुआ. इनकी गलती ये है कि जो काम पांच साल में करने होते हैं, इन्‍होंने वो काम करने का वादा 10 दिन में कर दिया.

शीला दीक्षित शीला दीक्षित

दिल्‍ली की पूर्व मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस की कद्दावर नेत्री शीला दीक्षित ने अरविंद केजरीवाल सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस सरकार का कोई भी वादा पूरा नहीं हुआ. इनकी गलती ये है कि जो काम पांच साल में करने होते हैं, इन्‍होंने वो काम करने का वादा 10 दिन में कर दिया.

आजतक को दिए गए एक्‍सक्‍लूसिव इंटरव्यू में शीला ने कहा कि हमने समर्थन सिर्फ उनकी ओर से बेतरतीब तरीके से किए गए वादों को पूरा करने के लिए दिया है. क्‍योंकि जिन वादों के सहारे इन्‍होंने दिल्‍ली की गद्दी हथियाई है, वो इतनी आसानी से पूरे होने वाले नहीं हैं. आप सरकार के लोग यह भी कह रहे हैं कि हमने 20 दिन में इतना काम कर दिया है, जो किसी ने नहीं किया. आखिर हमें कोई ये तो बताए कि काम हुआ क्‍या है. आम आदमी पार्टी (आप) ने पानी फ्री, बिजली के बिल कम करने जैसे जो वादे किए हैं, उन्‍हें पूरा करना इतना आसान नही हैं. सरकारें लोगों से टैक्‍स लेकर चलती हैं. आखिर कैसे पूरे होंगे काम.

अपने राज्‍यसभा में जाने के बाबत शीला कहती है कि मैं कोई एस्ट्रोलॉजर नही हूं. अभी तो मैं सिर्फ पैकिंग कर रही हूं. उन्‍होंने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट मजदूरों को सरकार आखिर कैसे पक्‍का करेगी? हजारों कमेटी बनी हैं, लेकिन नतीजा कुछ भी नहीं. सुरक्षा मुद्दे पर उन्‍होंने कहा कि मैं केंद्र सरकार के साथ खड़ी हूं. उन्‍होंने कहा कि केजरीवाल सरकार के एक महीने के कार्यकाल में जितने कांड हुए हैं, उतने तो हमारे पूरे कार्यकाल में नहीं हुए. दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष बरखा सिंह के सवाल पर शीला ने केजरीवाल सरकार की खिंचाई करते हुए कहा कि आपको सिस्‍टम बदलना है तो बदलिए. लेकिन आप किसी को नजरअंदाज नहीं कर सकते.

दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के रोज धरने पर बैठने के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि सरकार का दायित्‍व कुछ और होता है. वह विपक्ष की भूमिका नहीं निभा सकता. सरकार को पहले अपना काम देखना चाहिए. केंद्र को लिख सकते हैं, उससे बात कर सकते हैं. पर एक सीएम का धरने पर बैठना ठीक नहीं. ऐसा करने से सीएम की गरिमा धूमिल होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें