scorecardresearch
 

Shaheen Bagh LIVE: बीजेपी नेता का विवादित बयान, शाहीनबाग को बताया 'मिनी पाकिस्तान'

Bulldozer in Shaheen Bagh: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में आज अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर पहुंचा. लेकिन वहां MCD को भारी विरोध का सामना भी करना पड़ा.

X
शाहीन बाग में बुलडोजर की कार्रवाई शुरू हो चुकी है शाहीन बाग में बुलडोजर की कार्रवाई शुरू हो चुकी है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • साउथ MCD अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई कर रही है
  • फोर्स की कमी के चलते नहीं हो पा रही थी कार्रवाई
  • अब अतिरिक्त पुलिस फोर्स मिली थी

Bulldozer in Shaheen Bagh: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में अतिक्रमण हटाने पहुंचा बुलडोजर अब वहां से वापस लौट गया है. भारी हंगामे के बीच MCD की तरफ से वहां सिर्फ खानापूर्ति की गई. MCD कर्मचारियों ने वहां सिर्फ एक बिल्डिंग के बाहर लगी लोहे की रॉड्स को हटवाया, जो वहां रेनोवेशन के काम के लिए लगी थी. इस बीच सुप्रीम कोर्ट में इस मामले पर आज दोपहर 2 बजे सुनवाई होगी.

इससे पहले शाहीन बाग में आज भारी हंगामा देखने को मिला. कुछ स्थानीय नेता और लोग वहां MCD के बुलडोजर के आगे बैठ गए थे और उन्होंने MCD और बीजेपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, जिनको बाद में हटा लिया गया और कुछ को हिरासत में भी लिया गया. फिलहाल शाहीन बाग से अतिक्रमण हटाने का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें - 'जब सुनवाई का समय तय, तो शाहीन बाग में क्यों चला बुलडोजर?', सुप्रीम कोर्ट का सवाल, 2 बजे सुनवाई

शाहीन बाग की ताजा स्थिति को देखते हुए अतिरिक्त सुरक्षा बल वहां तैनात किया गया था. पुलिस की मदद के लिए CRPF के 100 जवान वहां भेजे गए थे.

Bulldozer in Shaheen Bagh LIVE Updates - 

- बीजेपी नेता का विवादित बयान, जहांगीरपुरी, शाहीन बाग को बताया मिनी पाकिस्तान, कहा इन इलाकों में न पुलिस जा सकती है न बुल्डोजर, यहां जब संविधान भारत का नहीं मानते तो इसे क्या मिनी पाकिस्तान न कहें.

- दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने पुलिस कमिश्नर और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के कमिश्नर को चिट्ठी लिखी और कहा कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं ने शाहीन बाग में बुलडोजर को रोका. उनके खिलाफ सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के लिए कार्रवाई की जाए.

-- सुप्रीम कोर्ट में शाहीन बाग से अतिक्रमण हटाने के मसले पर आज दोपहर 2 बजे सुनवाई होगी.

-- ताजा जानकारी के मुताबिक, शाहीन बाग से बुलडोजर वापस चला गया है. वहां उसने कोई कार्रवाई नहीं की. MCD ने सिर्फ एक बिल्डिंग के आगे खड़ी लोहे की रॉड को हटवाया. ये रॉड रेनोवेशन के काम के लिए लगाई गई थी.

-- शाहीन बाग पहुंचे AAP विधायक अमानतुल्लाह खान ने कहा कि मस्जिद के सामने एक शौचालय था, जिसे मैंने अपने पैसे से हटवाया. पूरी विधानसभा में जहां-जहां अतिक्रमण है, MCD वाले मुझे बताएं, मैं खुद हटवा दूंगा. ये यहां आकर माहौल खराब कर रहे हैं, राजनीतिकरण किया जा रहा है.

-- फिलहाल एक बिल्डिंग के सामने मौजूद लोहे की रॉड, पिलर्स को हटाया जा रहा है. ये रॉड रेनोवेशन के काम के लिए लगाई गई थी. इनको हटाने के लिए बुलडोजर का इस्तेमाल नहीं किया गया क्योंकि वहां काफी भीड़ है. उनको मजदूर और आम लोग मिलकर हटा रहे हैं.

-- ताजा जानकारी मिली है कि शाहीन बाग के वर्तमान हालत को देखते हुए CRPF की एक अतिरिक्त कंपनी दिल्ली पुलिस के साथ लॉ एंड ऑर्डर के लिए लगाई गई है. इसमें करीब 100 जवान CRPF के शामिल हैं.

-- इस बीच AAP विधायक अमानतुल्लाह खान भी शाहीन बाग पहुंच गए हैं. खान ने आजतक से कहा कि वह यही देखने आए हैं कि कहां अतिक्रमण है और कहां बुलडोजर चलाया जा रहा है.

-- शाहीन बाग में हंगामे के बीच मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. बुलडोजर की कार्रवाई के खिलाफ यह याचिका दायर की गई है.

-- शाहीन बाग में बुलडोजर फिलहाल आगे की तरफ बढ़ रहा है. बुलडोजर का विरोध कर रहे लोगों को साइड किया गया है. विरोध कर रही महिलाओं को हिरासत में लिया गया है.

-- बुलडोजर के सामने खड़े लोगों को अब पुलिस फोर्स द्वारा जबरन हटाया जा रहा है.

-- सुरक्षा बल के जवान अब बसों में शाहीन बाग पहुंचने लगे हैं. उनके पास आंसू गैस के गोले आदि भी हैं.

-- प्रदर्शनकारियों में कुछ महिलाएं भी शामिल हैं. जिनका कहना है कि MCD को पहले उनपर बुलडोजर चलाना होगा.

-- बुलडोजर के सामने बैठ लोग खुद को कांग्रेस पार्टी से जुड़ा बता रहे हैं. वहां बीजेपी, MCD के खिलाफ नारेबाजी शुरू हो चुकी है.

-- शाहीन बाग में बुलडोजर के पहुंचने के साथ ही ड्रामा शुरू हो चुका है. वहां कुछ लोग बुलडोजर के सामने बैठ गए हैं. इसमें स्थानीय नेता भी शामिल हैं. वह बोले कि गरीबों पर बुलडोजर चलाया जा रहा है. ऐसा नहीं होने दिया जाएगा.

-- MCD के कर्मचारी शाहीन बाग पहुंच चुके हैं. उनके सबके हाथों में लाल रंग का रिबन बांधा गया है. ताकि उनकी पहचान हो सके.

-- दिल्ली पुलिस आज शाहीन बाग इलाके में अतिक्रमण हटाने के लिए फोर्स उपलब्ध करा रही है. बुलडोजर भी शाहीन बाग थाने पहुंच चुका है.

यह भी पढ़ें - 'शाहीन बाग में कुछ भी गैर कानूनी नहीं, BJP नेता कराना चाहते हैं दंगा', बुलडोजर के एक्शन से पहले बोले पार्षद

इससे पहले जानकारी आई थी कि दिल्ली पुलिस का कहना है आज एमसीडी को पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था के लिए फोर्स नहीं दी जा सकती. दिल्ली पुलिस का कहना था कि साउथ ईस्ट जिला, जिसमें शाहीन बाग आता है वहां कई और संवेदनशील प्रोग्राम हैं और वहां फोर्स लगाई गई है, इसके चलते अतिक्रमण हटाने के लिए फोर्स नहीं मिल सकती. लेकिन अब ऐसा नहीं है, दिल्ली पुलिस ने फोर्स देने की बात कही है.

पहले भी पुलिस सुरक्षा नहीं मिलने की वजह से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई पर 8 मई तक रोक लगा दी गई थी.

बता दें कि साउथ MCD ने पहले एक पूरा रोस्टर तैयार किया था. इसमें बताया गया था कि साउथ दिल्ली के किस इलाके में कब अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर चलेगा. लेकिन इसके हिसाब से सिर्फ पहले ही दिन कार्रवाई हो पाई थी.

बुलडोजर से कहां-कहां एक्शन?

  • 4 मईः एमबी रोड पर करणी सिंह शूटिंग रेंज के आसपास
  • 5 मईः कालिंदी कुंज मेन रोड पर कालिंदी कुंज पार्क से जामिया नगर पुलिस स्टेशन तक (एक्शन पर रोक)
  • 6 मईः श्रीनिवासपुरी प्राइवेट कॉलोनी से ओखला रेलवे स्टेशन गांधी कैंप तक (एक्शन पर रोक)
  • 9 मईः शाहीन बाग मेन रोड (जी-ब्लॉक) और जसोला कनल से कालिंदी कुंज पार्क तक
  • 10 मईः न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के गुरुद्वारा रोड पर बौद्ध धर्म मंदिर और उसके आसपास
  • 11 मईः लोधी कॉलोनी के मेहर चंद मार्केट, साईं बाबा मंदिर और जवाहर लाल नेहरू मेट्रो स्टेशन के पास
  • 12 मईः धीरसेन मार्क, इस्कॉन मंदिर रोड, कालका देवी मार्ग और उसके आसपास
  • 13 मईः खड्डा कॉलोनी और उसके आसपास.

बताये गए प्लान के मुताबिक, 4 मई को तुगलकाबाद के एमबी रोड के आसपास करणी शूटिंग रेंज इलाके में अतिक्रमण हटाया गया था. तब स्थानीय लोगों ने दक्षिणी दिल्ली नगर-निगम की इस कार्रवाई का विरोध किया था. उनका कहना था कि उनकी दुकानें यहां 15 साल से थीं. अब नगर निगम अचानक उन्हें तोड़ दिया है.

साउथ दिल्ली नगर निगम ने अतिक्रमण हटाने का अभियान दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के उस पत्र के बाद चलाया था जिसमें उन्होंने दक्षिण और पूर्व नगर निगम को रोहिंग्या, बांग्लादेशी और अन्य असामाजिक तत्वों द्वारा किए गए अतिक्रमण को हटाने की मांग की थी.

जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के दिन हुई हिंसा के बाद वहां भी बुलडोजर से अतिक्रमण हटाया गया था. हालांकि, तब कार्रवाई बहुत ज्यादा लंबी नहीं चल सकी थी क्योंकि इसपर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश आ गया था. कोर्ट ने फिलहाल जहांगीरपुरी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई पर स्टे लगाया है.

 

  • क्या शाहीन बाग में बुलडोजर एक्शन सियासी फायदे के लिए किया जा रहा है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें