scorecardresearch
 

दिल्ली हिंसाः IPS अमित शर्मा और शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल को वीरता पुरस्कार

पिछले साल सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के चांदबाग इलाके में हेड कांस्टेबल रतन लाल पर दंगाइयों ने हमला कर दिया था. बाद में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. अब उन्हें पुलिस मेडल फॉर गैलेंट्री अवॉर्ड से नवाजा जाएगा.

शहीद रतन लाल और अमित शर्मा को मिलेगा वीरता पुरस्कार शहीद रतन लाल और अमित शर्मा को मिलेगा वीरता पुरस्कार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'वीरता का पुलिस पदक' से सम्मानित होंगे IPS अमित शर्मा
  • हिंसा में शहीद रतन लाल को पुलिस मेडल फॉर गैलेंट्री अवॉर्ड
  • पिछले साल दिल्ली के चांदबाग इलाके में शहीद हो गए थे रतन

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर अपने कर्तव्य और सेवा के आगे जान पर खेलने वाले बहादुर पुलिस अधिकारियों को वीरता पुरस्कार से नवाजा जाएगा. दिल्ली में सीएए विरोधी हिंसा के दौरान बहादुरी के लिए आईपीएस अमित शर्मा को वीरता का पुलिस पदक दिया जाएगा तो वहीं हिंसा में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल को सम्मानित किया जाएगा.

दिल्ली में पिछले साल सीएए विरोधी हिंसा के दौरान बहादुरी के लिए भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी अमित शर्मा को स्वतंत्रता दिवस पर सबसे प्रतिष्ठित वीरता पुरस्कार 'वीरता का पुलिस पदक' से सम्मानित किया गया है. अमित शर्मा इस समय पुलिस अधीक्षक, दमन के रूप में तैनात हैं.

पिछले साल फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली के चांदबाग इलाके में हुई हिंसा में उनके जबरदस्त साहस और दृढ़ संकल्प को दिखाने के लिए लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड मिला है. बता दें कि हिंसा के दौरान अमित शर्मा बुरी तरह घायल भी हो गए थे.

इसे भी क्लिक करें --- PM मोदी बोले-नहीं भूल सकते बंटवारे का दर्द, 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मनाने का ऐलान

इसी तरह पिछले साल नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल को पुलिस मेडल फॉर गैलेंट्री अवॉर्ड मिला है. 

सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के दौरान पिछले साल नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के चांदबाग इलाके में हेड कांस्टेबल रतन लाल पर दंगाइयों ने हमला कर दिया था. हमले में रतन लाल बुरी तरह से घायल हो गए थे और उन्होंने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया था.

बाबू राम को अशोक चक्र

दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर बाबू राम और कांस्टेबल अल्ताफ हुसैन भट को इस साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सर्वोच्च और दूसरे सर्वोच्च शांतिकालीन वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

एएसआई बाबू राम को शांतिकाल के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार अशोक चक्र से सम्मानित किया गया है, जबकि कांस्टेबल भट को दूसरा सर्वोच्च कीर्ति चक्र दिया गया है.

दो मरणोपरांत पुरस्कार कश्मीर में आतंकवाद विरोधी अभियानों के दौरान उनके निस्वार्थ बलिदान के लिए हैं.

J-K: कुलगाम में LG ने शहीद को दी श्रद्धांजलि

दूसरी ओर, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के ऑफिस की ओर से ट्वीट कर बताया गया कि उपराज्यपाल ने आज कुलगाम का दौरा किया. शुक्रवार के आतंकी हमले में शहीद निसार अहमद को उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए श्रद्धांजलि दी. पूरा जम्मू-कश्मीर प्रशासन शोक संतप्त परिवार के साथ खड़ा है और हर संभव सहायता दी जाएगी.

एक अन्य ट्वीट में कहा कि कायरतापूर्ण आतंकी हमले के बाद मेरी यात्रा आतंकवादियों और उनके हमदर्दों के लिए एक स्पष्ट संदेश है कि हम इस पवित्र भूमि से आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकेंगे. विकास को जन आंदोलन बनाने के लिए सरकार कटिबद्ध है.

अपने अगले ट्वीट में कहा कि युवा हमारे विकासात्मक एजेंडे का केंद्र बिंदु हैं, जबकि सरकार ऐसी नीतियों को लागू कर रही है जो युवा पीढ़ी को उनकी प्रगति की इच्छा को पूरा करने के लिए मजबूत करेगी, यह समाज की सामूहिक जिम्मेदारी है कि वे उन लोगों की पहचान करें जो अपने निहित स्वार्थों के लिए हमारे युवाओं को गुमराह करते हैं.

IES परीक्षा पास करने वाले तनवीर को बधाई

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल के ऑफिस की ओर से किए गए ट्वीट में कहा कि कुछ दिन पहले कुलगाम के निगिनपोरा कुंड गांव के तनवीर अहमद खान ने आईईएस परीक्षा में पूरे देश में दूसरी रैंकिंग हासिल कर पूरे जम्मू-कश्मीर का नाम रोशन किया. मेरा हमेशा से मानना ​​रहा है कि हमारे युवा स्वाभाविक रूप से सक्षम हैं और उनकी सफलता हमारे युवाओं को एक बेहतर भविष्य बनाने के लिए प्रेरित करेगी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें