scorecardresearch
 

दिल्ली: ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर दिल के मरीज की बचाई जान

फोर्टिस अस्पताल में भर्ती एक मरीज के लिए आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा से हार्ट ट्रांसपोर्ट किया गया. इसमें तनिक देरी भी जानलेवा साबित हो सकती थी इसलिए ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर काफी कम वक्त में हार्ट ट्रांसपोर्ट किया.

एंबुलेंस ने 22.5 किमी की दूरी 19.5 मिनट में तय की (ANI) एंबुलेंस ने 22.5 किमी की दूरी 19.5 मिनट में तय की (ANI)

दिल्ली में सोमवार को ट्रैफिक पुलिस ने इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से लेकर ओखला के फोर्टिस अस्पताल तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया ताकि समय पर दिल के एक मरीज की जान बचाई जा सके. दरअसल फोर्टिस अस्पताल में भर्ती एक मरीज के लिए आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा से हार्ट ट्रांसपोर्ट किया गया. इसमें तनिक देरी भी जानलेवा साबित हो सकती थी इसलिए ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर काफी कम वक्त में हार्ट ट्रांसपोर्ट किया. एयरपोर्ट से अस्पताल की 22.5 किमी की दूरी महज 19.5 मिनट में तय की गई.

अभी कुछ दिन पहले भी ट्रैफिक पुलिस ने गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल से दिल्ली के फोर्टिस (न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी) अस्पताल तक ग्रीन कॉरिडोर बनाकर एक मरीज को हार्ट ट्रांसप्लांट की सुविधा मुहैया कराई थी. ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर 31 किलोमीटर की दूरी 31 मिनट में ही तय की थी. गुरुग्राम और दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने मिलकर यह काम काम किया. ग्रीन कॉरिडोर की चर्चा इसलिए भी काफी हुई क्योंकि ऑड ईवन स्कीम के चलते पुलिस को काफी जद्दोजहद का सामना करना पड़ा. ग्रीन कॉरिडोर की मदद से पहले भी कई मरीजों की जान बचाई जा चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें