scorecardresearch
 

कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर-दवाइयां मुफ्त में बांटेंगे सांसद गौतम गंभीर

सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि कोई भी जरूरतमंद कोरोना पीड़ित उनके कार्यालय 22 पूसा रोड और सांसद कार्यालय जागृति एन्क्लेव पर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच मदद लेने के लिए सम्पर्क कर सकता है. 

X
गौतम गंभीर, बीजेपी सांसद (फाइल फोटो) गौतम गंभीर, बीजेपी सांसद (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी सांसद गौतम गंभीर का ऐलान
  • मुफ्त में दवाइयां और ऑक्सीजन सिलेंडर बांटेगे

पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने ऐलान किया कि अब वो संसदीय क्षेत्र में ही नहीं पूरी दिल्ली में कोरोना मरीजों को मुफ्त में दवाइयां और ऑक्सीजन सिलेंडर देंगे. दिल्ली वालों को ऑक्सीजन और दवा लेने के लिए सिर्फ डॉक्टर की पर्ची और आधार कार्ड दिखाना जरूरी है. अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए गंभीर ने कहा कि, “केजरीवाल देश के अकेले मुख्यमंत्री हैं जो जनता के लिए कुछ करने की बजाय अपने स्तुतिगान पर 600 करोड़ रुपये खर्च कर दिए. यह बेहद शर्मनाक है कि केंद्र के जानकारी और फंड देने के बाद भी ऑक्सीजन प्लांट नहीं लाए गए.'  

सांसद ने कहा कि कोई भी जरूरतमंद कोरोना पीड़ित उनके कार्यालय 22 पूसा रोड और सांसद कार्यालय जागृति एन्क्लेव पर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच मदद लेने के लिए सम्पर्क कर सकता है. 

बता दें कि पूर्वी दिल्ली के कार्यालय में मुफ्त दवा देने का काम पिछले एक हफ्ते से चल रहा है. 

वहीं पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा, "कोरोना महामारी ने केजरीवाल सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था को पूरी तरह से बेनकाब कर दिया है. इसलिए अगर केजरीवाल सरकार मंजूरी देती है तो दीन दयाल अस्पताल में अपनी तरफ से ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट के लिए एक करोड़ रुपये की सहयोग राशि देने को तैयार हूं, ताकि दिल्ली की जनता को बचाया जा सके. कृपया तुरंत ऑर्डर कीजिए. ये प्लांट 200 बेड को ऑक्सीजन सप्लाई कर सकता है. केजरीवाल जी कृपया दिल्ली वालों के लिए स्वीकार करें." 

वहीं दिल्ली बीजेपी उन लोगों से संपर्क कर रही है जिस परिवार के सभी सदस्य कोविड पॉजिटिव हैं. उनके घर पर बड़ी संख्या में पका भोजन पहुंचाने का काम चल रहा है. दिल्ली बीजेपी ने 8 आक्सीजन प्लांटों को ना लगाने पर आपराधिक लापरवाही का मामला दर्ज करने की मांग की है. जबकि वहीं दिल्ली कांग्रेस ऑक्सिजन कमी से हो रही मौतें की लापरवाही की जांच की मांग की. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें