scorecardresearch
 

पत्थर और घास से बनाते थे जीरा, पुलिस की रेड में बरामद हुआ 20 हजार किलो

दिल्ली पुलिस ने राजधानी के बवाना में नकली जीरा बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश किया है. यहां एक खास किस्म की घास, पत्थर के दाने और एक खास सीरे के इस्तेमाल से जीरा बनाया जाता था.

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आरोपी

  • दिल्ली पुलिस ने बवाना में की छापेमारी
  • 20 हजार किलो नकली जीरा बरामद

दिल्ली पुलिस ने राजधानी के बवाना में नकली जीरा बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश किया है. यहां एक खास किस्म की घास, पत्थर के दाने और एक खास सीरे के इस्तेमाल से बनाया जाता था. दरअसल, दिल्ली पुलिस को खबर मिली कि बवाना के पूठ खुर्द इलाके में नकली जीरे की फैक्ट्री चल रही है.

पहले तो पुलिस को यकीन नहीं हुआ, लेकिन अपने मुखबिरों के जरिए पुलिस ने पूरी जानकारी निकाली तो पता लगा कि जीरा नकली है और पत्थर को पीसकर उसे घास से खास तरीके से मिलाकर तैयार किया जाता है. इसके बाद पुलिस ने खाद्य और सुरक्षा विभाग से सम्पर्क किया, फिर उनकी टीम के साथ फैक्ट्री पर रेड मारी.

पुलिस ने फैक्ट्री से 20 हजार किलो तैयार नकली जीरा और 8 हजार किलो कच्चा माल बरामद किया है. तैयार जीरे को आगे भेजे जाने की भी पूरी तैयारी हो गई थी. तैयार नकली जीरे को उत्तर प्रदेश और राजस्थान समेत कई दूसरे राज्यों में भेजा जाना था.

जीरा बनाने का सामान भी राजस्थान से ही दिल्ली आया था. उसमें पीसा हुआ पत्थर, खास किस्म की घास और एक सीरा मिला है. सीरे में से ही जीरे की महक आ रही थी. जानकारी के मुताबिक सीरे की वजह से ही पत्थर और घास जीरे की तरह महकने लगता था. पुलिस ने इस मामले में अब तक 5 लोगों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस के मुताबिक पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वो लोग इस नकली जीरे को महज 20 रुपए किलो के हिसाब से दुकानदारों को बेचते थे, जबकि असली जीरे का भाव करीब 300 रुपए किलो है. ये लोग अगस्त महीने से इस फैक्ट्री को चला रहे थे, अब पुलिस इनसे ये पता लगा रही है कि ये लोग किन दुकानदारों को ये जीरा बेचते थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें