scorecardresearch
 

सीलिंग से व्यापारी परेशान, MCD हुई कंवर्जन और पार्किंग चार्ज से मालामाल

निगम से मिले आंकड़ों के मुताबिक 15 दिसम्बर 2017 से 2 फरवरी 2018 तक साउथ एमसीडी के तहत आने वाले इलाकों में 694 सम्पतियां सील की जा चुकी हैं.

फाइल फोटो फाइल फोटो

दिल्ली में जारी सीलिंग का भले ही व्यापारियों की सेहत पर बुरा असर पड़ रहा हो लेकिन सीलिंग से निगम की माली सेहत पर सकारात्मक असर पड़ रहा है.

सबसे पहले बात नॉर्थ एमसीडी की करें तो उसे सीलिंग शुरू होने के बाद अकेले जनवरी 2018 में 79 करोड़ 92 लाख रुपये तो फरवरी के पहले हफ्ते में 3 करोड़ 49 लाख रुपये का कंवर्जन और पार्किंग चार्ज मिल चुका है. इसके अलावा अगर बात अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 की करें तो नॉर्थ एमसीडी को इस दौरान कंवर्जन और पार्किंग चार्ज से 190 करोड़ रुपये की आमदनी हो चुकी है.

MCD हुई कंवर्जन और पार्किंग चार्ज से मालामाल

वहीं साउथ एमसीडी भी कंवर्जन और पार्किंग चार्ज से मालामाल हो रही है. सीलिंग अभियान शुरू होने के बाद से अकेले फरवरी के पहले हफ्ते में ही साउथ एमसीडी के खाते में कंवर्जन और पार्किंग चार्ज के रूप में 5 करोड़ 93 लाख रुपये जमा हो चुके हैं. इसके अलावा यदि बात अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 की करें तो साउथ एमसीडी को उसके सभी चारों जोन से करीब 153 करोड़ रुपये से ज्यादा का कंवर्जन और पार्किंग चार्ज मिल चुका है.

1500 से ज्यादा व्यावसायिक प्रतिष्ठान हुए सील

निगम से मिले आंकड़ों के मुताबिक 15 दिसम्बर 2017 से 2 फरवरी 2018 तक साउथ एमसीडी के तहत आने वाले इलाकों में 694 सम्पतियां सील की जा चुकी हैं. वहीं इसी दौरान नार्थ एमसीडी के तहत आने वाले इलाकों में इसी दौरान 970 सम्पतियों को सील किया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें