scorecardresearch
 

दिल्ली के नाइट कर्फ्यू से फिर टूटेगी रेस्ट्रो इंडस्ट्री! 80% कारोबार गिरने की आशंका 

दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोकने के लिए जहां नाइट कर्फ्यू शुरू हो गया है, तो वहीं व्यापारी इससे चिंतित हैं. माना जा रहा है कि नाइट कर्फ्यू का सबसे ज्यादा प्रभाव रेस्ट्रो इंडस्ट्री पर पड़ेगा, क्योंकि ये नाइट का ही व्यापार है.  

दिल्ली के नाइट कर्फ्यू से फिर टूटेगी रेस्ट्रो इंडस्ट्री! दिल्ली के नाइट कर्फ्यू से फिर टूटेगी रेस्ट्रो इंडस्ट्री!
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नाइट में चलते हैं कई तरह के व्यापार 
  • नाइट कर्फ्यू टेंशन में दिल्ली के कई व्यापारी 
  • कर्फ्यू से व्यापारियों को फिर से लगा धक्का

दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने के बाद व्या​पारियों में टेंशन हैं. कोरोना की रोकथाम के लिए व्यापारी दिल्ली सरकार के साथ होने का दावा कर रहे हैं, लेकिन उनके व्यापार पर फिर से संकट मडराने लगा है. रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक दिल्ली में नाइट कर्फ्यू का सबसे ज्यादा असर होटल, रेस्टोरेंट, बार, फार्महाउस और बैंक्वेट बिजनेस पर पड़ा है. इस कारोबार से जुड़े कारोबारियों को धक्का लगा है, क्योंकि ये सभी रात के बिजनेस हैं.

दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस में नाइट कर्फ्यू से देर रात चलने वाले इन कारोबार पर होने वाले असर की पड़ताल में ये पाया कि पिछले लॉकडाउन के बाद ये व्यवसाय धीरे-धीरे उभरते हुए करीब 70 प्रतिशत पटरी पर लौट भी आए, लेकिन नाइट कर्फ्यू से डर है कि दोबारा ये 20 प्रतिशत पर ना गिर जाएं.

यह नाइट कर्फ्यू नहीं लॉकडाउन

कनॉट प्लेस स्थित रेस्टोरेंट और बार में हॉस्पिटैलिटी प्रोफेशनल सुनील टिक्कू का कहना है कि बार और रेस्तरां में सिर्फ फूड और ड्रिंक्स ही नहीं सर्व की जाती, बल्कि लोग इंटरटेनमेंट और मूड चेंज के लिए भी आते हैं. चिलचिलाती धूप, गर्मी में लोग बाहर नहीं निकलते तो लेट नाइट ही आते हैं. रेस्टोरेंट में अधिक संख्या में लोग रात 9 बजे तक आते हैं, लेकिन 10 बजे नाइट कर्फ्यू की वजह से आखिरी ऑर्डर 8 बजे ही लिया जा रहा है. एडवांस बुकिंग कैंसिल हो रही हैं. टिक्कू ने इसे नाइट कर्फ्यू नहीं लॉकडाउन बताया है. 

कनॉट प्लेस ही नहीं अलग-अलग शहरों में कई रेस्टोरेंट चेन चलाने वाले रजनीश बहल का कहना है कि पिछले साल 22 मार्च को लॉकडाउन लगने के पांच महीने बाद अगस्त में रेस्टोरेंट खोलने की इजाजत सरकार ने दी थी. अब नाइट कर्फ्यू की वजह से रात 9 बजे ही शटर डाउन हो जाता है और रात के 8 बजे ही लास्ट ऑर्डर लिया जाता है, लिहाजा रेवेन्यू लॉस बहुत बढ़ा हैं, क्योंकि लोगों की देर से खाने की आदत होती है. एक आंकड़े के मुताबिक पिछले लॉकडाउन में कनॉट प्लेस के अंदर करीब 50 रेस्टोरेंट और बार बंद हो चुके हैं.  

नई दिल्ली ट्रेडर्स एसोसिएशन के एग्जिकिटिव मेंबर अमित कुमार ने बताया कि कनॉट प्लेस में करीब 250 रेस्टोरेंट और 1,000 दुकानें भी हैं, जो देर रात तक खुलती थीं. लिहाजा उनकी सेल और मार्जिन पर भारी असर होगा. अमित का कहना है पैंडमिक का टाइम है, तो काम पर असर पड़ेगा ही. वहीं दिल्ली में अप्रैल शादियों का सीजन होता है, लिहाजा बैंक्वेट हॉल व्यवसाय पर भी खासा असर पड़ रहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें