scorecardresearch
 

केजरीवाल ने शुरू की 'फरिश्ते दिल्ली के' योजना, घायलों का इलाज कराएगी सरकार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को फरिश्ते दिल्ली के योजना को लॉन्च किया. स्कीम को लॉन्च करने के बाद सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर इस योजना को दिल्ली के हर नागरिक के लिए गारंटी बताया.   

'फरिश्ते दिल्ली के' योजना लॉन्च (Photo- Aajtak) 'फरिश्ते दिल्ली के' योजना लॉन्च (Photo- Aajtak)

  • 'फरिश्ते दिल्ली के' स्कीम लॉन्च
  • 3000 लोगों की बचाई गई है जान

केजरीवाल सरकार ने 'फरिश्ते दिल्ली के' स्कीम को लॉन्च करते हुए सोमवार (7 अक्टूबर) को मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज में उन लोगों को सम्मानित किया जिन्होंने सड़क दुर्घटना में घायल हुए लोगों की मदद की और उनकी जान बचाई. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने जान बचाने वालों को 'फरिश्ते दिल्ली के' नाम दिया है. केजरीवाल सरकार के मुताबिक अब तक 3000 लोगों की इस स्कीम के तहत जान बचाई गई है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'इस स्कीम में आने वाली कठनाई को जानने के बाद आज 'फरिश्ते दिल्ली के' स्कीम को पूरी तरह दिल्ली में लॉन्च किया जा रहा है. हम नेता नही हैं, हमें राजनीति करनी आती नहीं है. भगवान ने हमें सरकार में पहुंचाकर सेवा का मौका दिया है. अब तक लोगों का पार्टी या सरकार पर भरोसा नहीं था. अब तक 5 साल से लोग टैक्स दे रहे हैं तो उन्हें भरोसा है कि सरकार उनके लिए काम कर रही है.'

दिल्ली का हर नागरिक फरिश्ता बने: केजरीवाल

आगे केजरीवाल ने कहा, 'दुर्घटना के बाद अगला एक घंटा गोल्डन ऑवर होता है. इस दौरान घायल को अस्पताल पहुंचा दिया तो उसकी जान बच सकती है. पुलिस किसी को तंग नहीं करती है. निर्भया मामले में वो सड़क पर पड़ी रही, किसी ने अस्पताल में भर्ती नहीं कराया, अगर टाइम पर भर्ती करा दिया होता तो जान बच सकती है. आज फरिश्ते दिल्ली को आधिकारिक तौर पर लॉन्च किया जा रहा है. मैं चाहता हूं कि दिल्ली का हर नागरिक फरिश्ता बने. दिल्ली में ऑटो वाले और टैक्सी वाले भाई कहीं दुर्घटना हो जाए तो जान बचाने का काम करें.

केजरीवाल का गीत- इंसान का इंसान से हो भाईचारा

वहीं, स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने कहा, 'अरविंद केजरीवाल एक गीत गाते हैं इंसान का इंसान से हो भाईचारा. इंसान को इंसान से मोहब्बत होगी तभी इस तरह की स्कीम आ सकती है. एक जान भी बचती है तो भगवान से दुआ है कि आगे भी अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में सरकार चलती रहे. 80% लोगों को इस स्कीम के बारे में जानकारी नहीं है. मेरा मानना है कि किसी की जान बचाई है, तो 1000 लोगों तक कहानी जरूर पहुंचाए. नेकी करें और व्हाट्सएप फेसबुक पर जरूर डालें.'

मदद करने वालों को 2 हजार रुपये का इनाम: जैन

आगे सत्येन्द्र जैन ने स्कीम के बारे में बताते हुए कहा, 'स्कीम के तहत दिल्ली की बाउंडरी में दुर्घटना, आग लगने या एसिड विक्टिम है तो नजदीकी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में लेकर जाएं. लाखों का इलाज का खर्चा दिल्ली सरकार उठाएगी. मरीज के अस्पताल बदलने से लेकर एम्बुलेंस की सुविधा का खर्च केजरीवाल सरकार देगी. इसमें कोई पूछताछ नहीं होगी. इसमें मदद करने वालों को 2 हजार रुपये का इनाम भी है. हालांकि, अब तक की जानकारी के मुताबिक, मदद करने वालों ने इनाम लेने से इनकार कर दिया है. शुरुआती इलाज से लेकर बड़े से बड़े ऑपरेशन के खर्च दिल्ली सरकार इस स्कीम के तहत उठा रही है.'

केजरीवाल सरकार का दावा है कि दुर्घटना में घायल मरीज का इलाज करने से मना करने पर अस्पताल का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें