scorecardresearch
 

दिल्लीः 10 दिन में तैयार हुआ 500 बेड का अस्पताल, ICU-वेंटिलेटर उपलब्ध

गुरु तेग बहादुर आईसीयू अस्पताल में गंभीर कोरोना मरीजों का इलाज हो सकेगा. इस अस्पताल में सौ वेंटिलेटर के बेड, 350 बाईपैप मशीन और 50 हाई फ्रीक्वेंसी नेजल ऑक्सीजन बेड्स का इंतजाम किया गया है.

10 दिन में तैयार हुआ अस्पताल 10 दिन में तैयार हुआ अस्पताल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम केजरीवाल ने किया निरीक्षण
  • आईसीयू हॉस्पिटल में है वेंटिलेटर भी

दिल्ली के दिलशाद गार्डन स्थित जिस मैदान में रामलीला का मंचन होता था वहां अब कोरोना संक्रमितों का उपचार होगा. दिलशाद गार्डन स्थित गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल के समीप रामलीला मैदान में महज 10 दिन के अंदर 500 आईसीयू बेड का अस्पताल तैयार किया गया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जीटीबी अस्पताल के समीप रामलीला मैदान में बने आईसीयू बेड वाले अस्थायी अस्पताल का दौरा किया.

गुरु तेग बहादुर आईसीयू अस्पताल में गंभीर कोरोना मरीजों का इलाज हो सकेगा. इस अस्पताल में सौ वेंटिलेटर के बेड, 350 बाईपैप मशीन और 50 हाई फ्रीक्वेंसी नेजल ऑक्सीजन बेड्स का इंतजाम किया गया है. आईसीयू बेड पर मरीजों के इलाज के लिए डॉक्टरों की फौज तैनात की गई है. आईसीयू अस्पताल में 8-8 घंटे की शिफ्ट में डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, हाउस कीपिंग स्टाफ और सुरक्षा गार्ड्स की ड्यूटी लगाई गई है.

500 बेड के अस्पताल में लगे हैं वेंटिलेटर
500 बेड के अस्पताल में लगे हैं वेंटिलेटर

गंभीर कोरोना मरीजों का आईसीयू में इलाज करने के लिए 120 जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर और 40 सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर तैनात किए गए हैं. वहीं, करीब 30 स्पेशलिस्ट डॉक्टर की ड्यूटी भी लगाई गई है ताकि हार्ट, किडनी या अन्य बीमारियों का उपचार किया जा सके. साथ ही 350 नर्सिंग स्टाफ भी आईसीयू अस्पताल में मरीजों की देखरेख के लिए तैनात रहेंगे.

ऑक्सीजन के लिए बनाए गए दो बड़े स्टोरेज टैंक 

पांच सौ बेड के इस अस्थायी हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए परिसर में ही दो बड़े ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक बनाए गए हैं. इन दो टैंक से अस्पताल में पाइप लाइन के जरिए डायरेक्ट बेड पर ऑक्सीजन की सप्लाई होगी. ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की क्षमता करीब 22 मीट्रिक टन की है. जीटीबी के इस अस्थायी आईसीयू अस्पताल में पीएम केअर्स फंड से कई वेंटिलेटर भी लगाए गए हैं. 500 बेड के अस्पताल में कई ऐसे वेंटिलेटर बेड नजर आए जिनपर पीएम केअर्स लिखा हुआ है. आईसीयू अस्पताल में अलग-अलग ब्लॉक बनाए गए हैं और लगभग हर ब्लॉक में पीएम केअर्स वाले वेंटिलेटर रखे गए हैं.

ऑक्सीजन स्टोरेज के लिए लगाए गए टैंकर
ऑक्सीजन स्टोरेज के लिए लगाए गए टैंकर

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आईसीयू अस्पताल का जायजा लिया और कहा कि कोरोना की दूसरी लहर बहुत खराब रही है जिसमें लोग बीमार हुए और काफी ज्यादा मौतें भी हुईं. बड़े पैमाने पर संक्रमण फैला तो आईसीयू बेड की जरूरत भी पड़ी. इसलिए 500 बेड तैयार किए गए हैं. ये अस्पताल जीटीबी अस्पताल से ही अटैच रहेगा.

एलएनजेपी के पास भी बन रहा अस्थायी अस्पताल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि इसी तरह लोकनायक जयप्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल के पास स्थित रामलीला मैदान में भी आईसीयू अस्पताल बन रहा है.

अरविंद केजरीवाल ने किया निरीक्षण
अरविंद केजरीवाल ने किया निरीक्षण

उन्होंने कहा कि ये अस्पताल भी दो-तीन दिन में शुरू हो जाएगा. उन्होंने दावा किया कि अब दिल्ली में आईसीयू बेड की कमी महसूस नहीं होगी. इसके अलावा ऑक्सीजन के बेड भी बड़ी संख्या में बढ़ाए जा रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें