scorecardresearch
 

कांग्रेस का मिशन 2024... बड़े नेताओं के साथ सोनिया का मंथन, प्रशांत किशोर का प्रेजेंटेशन

कांग्रेस ने आज 10 जनपथ पर अचानक हाईलेवल मीटिंग बुलाई है. बताया जा रहा है कि इस दौरान पार्टी के बड़े नेता कई मुद्दों पर मंथन करेंगे.

X
सोनिया गांधी और राहुल गांधी (फाइल फोटो)
सोनिया गांधी और राहुल गांधी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस के बड़े नेता 10 जनपथ पहुंचे
  • पार्टी ने अचानक बुलाई अहम बैठक

दिल्ली में कांग्रेस ने शनिवार को अचानक एक हाईलेवल बैठक बुलाई. 10 जनपथ में हुई इस मीटिंग में पार्टी के बड़े नेताओं ने शिरकत की. इस दौरान वर्तमान राजनीतिक स्थिति के साथ ही आगामी लोकसभा चुनाव पर चर्चा की गई. बैठक में प्रशांत किशोर की मौजूदगी ने सभी का ध्यान खींचा. सूत्रों के मुताबिक प्रशांत किशोर ने 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की रणनीति पर चर्चा की.

जानकारी के मुताबिक मीटिंग में प्रशांत किशोर ने 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस नेताओं के सामने विस्तृत प्रिजेंटेशन दिया है. साथ ही 2024 की तैयारियों को लेकर रोडमैप भी बताया है. इस दौरान ग्रुप डिस्कशन के साथ ही व्यक्तिगत चर्चा भी हुई. हालांकि राहुल गांधी अभी भी 10 जनपथ में मौजूद हैं.

मीटिंग से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बताया कि आज सोनिया गांधी ने अर्जेंट मीटिंग बुलाई है. मैं बैंगलुरु में था. मुझे इस बारे में जानकारी दी गई. साथ ही मीटिंग में शामिल होने के लिए कहा गया. 

प्रशांत की क्या रणनीति है?

कांग्रेस नेता अंबिका सोनी, दिग्विजय सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर मीटिंग में शामिल हुए. साथ ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी और केसी वेणुगोपाल भी बैठक में मौजूद रहे. बता दें कि 10 जनपथ पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक दोपहर करीब 3 बजे खत्म हो गई है. 

बैठक में प्रशांत किशोर को लेकर कांग्रेस पार्टी ने अपना रुख एकदम स्पष्ट कर दिया है. पार्टी इस बार प्रशांत किशोर को बतौर चुनावी एक्सपर्ट या रणनीतिकार पार्टी में शामिल नहीं करना चाहती है. कांग्रेस चाहती है कि इस बार प्रशांत किशोर पार्टी की सदस्यता लें और फिर एक कार्यकर्ता की तरह काम करें.

मीटिंग में प्रशांत किशोर ने इस बात पर भी जोर दिया है कि इस बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को करीब 370 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने चाहिए. उनकी माने तो ये वो सीटें हैं जहां पर पार्टी ज्यादा मजबूत है. बाकि सीटों पर गठबंधन के साथियों को उम्मीदवार उतारने का मौका दिया जाए. इस सब के अलावा प्रशांत ने ये भी सलाह दी है कि पार्टी को इस बार ज्यादा फोकस उन राज्यों पर करना चाहिए जहां पर पहले से उसकी स्थिति मजबूत है.

सोनिया ने अंग्रेजी अखबार में लिखा लेख

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को एक अखबार में लिखे लेख में सरकार पर निशाना साधा था. सोनिया गांधी ने कहा कि आज हमारे देश में नफरत, कट्टरता औऱ असहिष्णुता का महौल है. अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो यह काबू से बाहर हो जाएगा. 

इससे पहले हुई मीटिंग में क्या हुआ

पार्टी ने कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग बुलाई थी. इसमें 5 घंटे तक कांग्रेस के दिग्गजों ने बैठक में मंथन किया था. बैठक में राहुल गांधी ने कहा था कि ये बात स्पष्ट होनी चाहिए कि हमारा उद्देश्य क्या है और हम लोगों तक क्या पहुंचाएंगे. हमें अलग-अलग राज्यों के लिए अलग-अलग रणनीति बनाने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें