scorecardresearch
 

JNU छात्र संघ चुनावः सभी चार सीटों पर आईसा का कब्जा

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) ने सोमवार को दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ चुनाव में सभी चारों सीटें अपने नाम कर लिया है. आईसा को चुनाव में बड़े अंतर से जीत हासिल हुई है.

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) ने सोमवार को दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ चुनाव में सभी चारों सीटें अपने नाम कर लिया है. चुनाव के परिणाम तीन दिन की मतगणना प्रक्रिया के बाद सोमवार को घोषित हुए. आईसा ने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव और संयुक्त सचिव पद हासिल किया है.

आईसा के अकबर चौधरी अध्यक्ष, अनुभूति अग्नेस उपाध्यक्ष, संदीप सौरव महासचिव और सरफराज हामिद संयुक्त सचिव चुने गए. आईसा ने परिषद की 26 में से 14 सीटों पर भी कब्जा जमाया.

जीत के बाद अकबर चौधरी ने कहा, 'कैंपस के अन्दर एक सकारात्मक और समाजिक माहौल बनाने की कोशिश होगी ताकि कैंप में किसी भी तरह की घटनाएं फिर ना हो'. नए एडमिशन में आए छात्रों को हॉस्टल की काफी दिक्कत होती है, अकबर उसके लिए भी काम करेंगे.

चौधरी दर्शनशास्त्र में शोध कर रहे हैं और उन्हें डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन (डीएसएफ) के उम्मीदवार ईशान आनंद के 1,327 मतों के मुकाबले 1,977 मत मिले. अग्नेस इतिहास विषय से एम.फिल कर रही हैं और उन्होंने डीएसएफ के जीशान अली को 914 मतों से मात दी. स्कूल ऑफ लैंग्वेज के छात्र सौरभ ने एनएसयूआई की उम्मीदवार कैरोलिन मैनिन को 953 मतों से हराया. संयुक्त सचिव पद पर निर्वाचित हुए हामिद फ्रेंच भाषा में स्नातकोत्तर के छात्र हैं और उन्होंने डीएसएफ की सोनम गोयल को बेहद कम 59 मतों के अंतर से मात दी. उन्हें 1,705 मत प्राप्त हुए.

स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया, आईसा और डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन के बीच मुख्य मुकाबला था. भारतीय राष्ट्रीय छात्रसंघ (एनएसयूआई) और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के उम्मीदवार भी अपनी किस्मत आजमा रहे थे. गौरतलब है कि 2012 के चुनाव में भी आईसा ने अध्यक्ष पद के अलावा सभी तीन पद अपने नाम किए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें