scorecardresearch
 

छत्तीसगढ़ में 2 नक्सली हमलों के बावजूद पहले दौर में 18 सीटों पर 70 फीसदी वोटिंग

वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने बताया कि मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि अभी अंतिम आंकड़े मिलने बाकी हैं. छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से पहले चरण के चुनाव में 18 सीटों के लिए मतदान हुआ. चुनाव आयोग के अनुसार शाम 5.30 बजे तक कुल मतदान प्रतिशत 58.55 था.

बूथ के बाहर मतदाता (फोटो- PTI) बूथ के बाहर मतदाता (फोटो- PTI)

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण की वोटिंग खत्म हो गई जिसमें करीब 70 फीसदी वोट डाले गए. चुनाव आयोग ने यह जानकारी दी. पहले चरण में राज्य के 8 जिलों की 18 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हुई. वोटिंग के तुरंत बाद मुख्यमंत्री रमन सिंह ने पहले चरण की 18 में से 14 सीटों पर बीजेपी की जीत का दावा किया है.

वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने बताया कि मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि अभी अंतिम आंकड़े मिलने बाकी हैं. छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से पहले चरण के चुनाव में 18 सीटों के लिए मतदान हुआ. चुनाव आयोग के अनुसार शाम 5.30 बजे तक कुल मतदान प्रतिशत 58.55 था.

आयोग ने बताया कि कोंडागांव में 61.47 प्रतिशत, केशकाल में 63.51 प्रतिशत, कांकेर में 62 प्रतिशत, बस्तर में 58 प्रतिशत, दंतेवाडा में 49 प्रतिशत, खैरागढ़ में 70.14 प्रतिशत, डोंगरगढ़ में 71 प्रतिशत, डोंगरगांव में 71 प्रतिशत और खुज्जी विधानसभा सीट के लिए 72 प्रतिशत मतदान हुआ. इन 18 में से 12 सीटें अनसूचित जनजाति के लिए और एक सीट अनसूचित जाति के लिए आरक्षित है.

नक्सली हमलों के बीच चुनाव

वोटिंग के दौरान नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और नक्सलियों के बीच हुई अलग-अलग मुठभेड़ में सीआरपीएफ के दो अधिकारी समेत पांच सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं. वहीं दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र के सात जिलों और राजनांदगांव जिले के 18 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग हुई. राज्य में नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की घोषणा की है और सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने का प्रयास भी किया.

मोहला-मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल, कोण्डागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोण्टा में सुबह सात बजे से दोपहर तीन बजे तक मतदान हुआ, यह इलाका नक्सल प्रभावित क्षेत्र में आता है. वहीं विधानसभा क्षेत्र खैरागढ, डोंगरगढ़, राजनांदगांव, डोंगरगांव, खुज्जी, बस्तर, जगदलपुर और चित्रकोट में सुबह आठ बजे से लेकर शाम पांच बजे तक वोट डाले गए.

राज्य में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा बल के लगभग सवा लाख जवानों को तैनात किया गया था. वहीं नक्सलियों ने पिछले 15 दिनों अलग-अलग घटनाओं में 14 लोगों की हत्या कर दी है जिसमें सुरक्षाबल के जवान और नागरिक शामिल हैं. राज्य में 72 विधानसभा सीटों के लिए 20 नवम्बर को मतदान होगा और परिणामों की घोषणा 11 दिसंबर को होगी.

2013 चुनाव में क्या थे नतीजे

2013 में विधानसभा चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को घोषित किए गए थे. इनमें भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में लगातार तीसरी बार कांग्रेस को मात देकर सरकार बनाई थी. रमन सिंह की अगुवाई में बीजेपी को 2013 में कुल 49 विधानसभा सीटों पर जीत मिली थी. जबकि कांग्रेस सिर्फ 39 सीटें ही जीत पाई थी. जबकि 2 सीटें अन्य के नाम गई थीं. 2008 के मुकाबले बीजेपी को तीन सीटें कम मिली थीं, इसके बावजूद उन्होंने पूर्ण बहुमत से अपनी सरकार बनाई. रमन सिंह 2003 से राज्य के मुख्यमंत्री हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें