scorecardresearch
 

लाठी से लेकर लैपटॉप तक की राजनीति करने को तैयार हैं तेजस्वी

राष्ट्रीय परिषद की बैठक में यह प्रस्ताव पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद जगदानंद सिंह ने पेश किया जिसका समर्थन बैठक पर मौजूद सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सर्वसम्मति से हाथ उठाकर किया.

तेजस्वी यादव (फाइल फोटो) तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय परिषद की बैठक में मंगलवार को दो बड़े फैसले लिए गए. पहला फैसला यह लिया गया कि पार्टी बिहार में अगला चुनाव पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के नेतृत्व में लड़ेगी और दूसरा फैसला लिया गया कि राज्य में अगर अगली सरकार आरजेडी की बनती है तो तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री होंगे.

राष्ट्रीय परिषद की बैठक में यह प्रस्ताव पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद जगदानंद सिंह ने पेश किया जिसका समर्थन बैठक पर मौजूद सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सर्वसम्मति से हाथ उठाकर किया.

प्रस्ताव के पास हो जाने के बाद तेजस्वी यादव ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला और कहा कि नीतीश चीफ मिनिस्टर नहीं है बल्कि 'चीट मिनिस्टर' हैं क्योंकि उन्होंने जनता के जनादेश का अपमान करके भाजपा के साथ सरकार बनाई.

नीतीश के द्वारा बच्चा कहे जाने को लेकर भी तेजस्वी यादव ने उन पर हमला बोला और कहा कि वह भले ही बच्चा हो मगर उनके अंदर उनके पिता लालू प्रसाद का खून है और वह आजीवन गरीब और पिछड़ों के लिए लड़ाई लड़ते रहेंगे.

बैठक में तेजस्वी ने कहा कि उनके नेतृत्व में आरजेडी लाठी की राजनीति भी करेगी जो उनके पिता लालू प्रसाद किया करते थे और लैपटॉप की राजनीति भी करेगी ताकि सोशल मीडिया पर विरोधियों को करारा जवाब दिया जा सके.

राष्ट्रीय परिषद की बैठक को आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने भी संबोधित किया और उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार सवर्ण जाति के लोगों को उनका भय दिखाकर उन्हें डराने की कोशिश कर रहे हैं. लालू ने कहा कि सवर्ण जाति के लोग इतने डरपोक नहीं है केवल लालू से घबराकर नीतीश कुमार का समर्थन करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें