scorecardresearch
 

तेजप्रताप यादव का विवादित बयान- दोनों भाइयों के खिलाफ कोई बोला तो चीर देंगे

लोकसभा चुनाव में हार के बाद से आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और तेजप्रताप पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. इससे भड़के तेजप्रताप यादव ने बेहद विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अगर हम दोनों भाइयों पर किसी ने सवाल उठाया तो  उसको चीर देंगे.

आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव (Courtesy- India Today) आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव (Courtesy- India Today)

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने बेहद विवादित बयान दिया है. तेजस्वी यादव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, 'हम भाइयों की जोड़ी पर कई सवाल उठाए गए. हम दोनों के बीच जो आएगा, उस पर चक्र चलेगा. हम दोनों भाइयों को लेकर जो बोलेगा, उसको हम चीर देंगे.' तेजप्रताप ने कहा कि बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव काम में व्यस्त हैं, इसलिए हमको यहां पर भेजे हैं.

इस दौरान तेजप्रताप ने आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को छुड़ाने की बात कही. उन्होंने कहा कि खून का एक-एक कतरा लगाना है और लालू प्रसाद यादव को जेल से छुड़ाना है. इस बीच तेजप्रताप यादव महिला कार्यकर्ताओं पर मेहरबान दिखे. उन्होंने महिला कार्यकर्ताओं की कतार के सामने पुरुष कार्यकर्ताओं के आने पर खासी नाराजगी जताई. उन्होंने पुरुष कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे महिला कार्यकर्ताओं के सामने से हठ जाएं.

उन्होंने कहा, 'अगर पुरुष कार्यकर्ता महिला कार्यकर्ताओं के आगे खड़े होंगे तो वो हमको कैसे देख पाएंगी. ऐसे में महिलाएं आगे कैसे बढ़ेंगी. आरजेडी में महिलाओं को आगे बढ़ना है. हमारे पिता लालू प्रसाद यादव भी महिलाओं को हमेशा आगे की पंक्ति में बैठाते थे. हम भी महिलाओं को आगे की पंक्ति में बैठाएंगे. हम सदन में सरकार की बोलती और हेकड़ी दोनों बंद कर देंगे.' तेजस्वी यादव के खिलाफ बयानबाजी से भड़के तेजप्रताप ने कहा, 'मेरे भाई तेजस्वी यादव पर भागने का आरोप लगाया गया है, जो सरासर गलते हैं.'

वहीं, आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा, 'सामाजिक न्याय और सेक्युलरिज्म के मुद्दे में अब वो बात नहीं रह गई है. हम लोग अब भी उसी विचारधारा पर चल रहे हैं. आरजेडी की सोच में अब ठहराव आ गया है. तालाब के पानी में ठहराव होता है, तो उससे दुर्गन्ध आने लगती है, जबकि नदी के पानी में ठहराव नहीं होता और उससे दुर्गन्ध नहीं आती है.'

शिवानंद तिवारी यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे कहा, 'मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत को लेकर आरजेडी ने क्या कहा? रामचंद्र पूर्वे वहां गए और सिर्फ खानापूर्ति कर दी. हमने उन पीड़ित परिवार के लिए लड़ाई नहीं लड़ी. रोज-रोज सेकुलरिज्म का नाम लेने से कुछ नहीं होना है. इसके लिए हमने कोई लड़ाई नहीं लड़ी. देश में नरेंद्र मोदी का विकल्प नहीं था. पूरे देश में सिर्फ देश का ही मुद्दा छाया रहा. हम नरेंद्र मोदी के मुद्दों का जवाब नहीं दे पाए.'

इस दौरान शिवानंद तिवारी ने तेजस्वी यादव से अपील की कि वो लालू प्रसाद यादव से सीख लें, संघर्ष करें और लोगों से मिलें. लड़ाई लड़ने के लिए आगे आना होगा. शेर का बेटा मांद में बैठा रहे, इससे काम कैसे चलेगा. इससे बिल्कुल भी काम चलने वाला नहीं है. उन्होंने तेजस्वी यादव से कहा, 'हमारे साथ बैठिए. हम चाहते हैं कि तेजस्वी यादव मार खाएं, लाठी खाएं और नीतीश कुमार के शासन में जेल जाएं. आज लालू इस हालत पर तनाव में होंगे. शिवानंद तिवारी की इस अपील पर आरजेडी के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने ताली बजाई.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें