scorecardresearch
 

उपेंद्र कुशवाहा ने कसा तंज, पासवान जानते थे NDA का खाता नहीं खुलेगा, इसलिए राज्यसभा जा रहे

बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के घटक दलों के बीच सीटों पर बंटवारे को लेकर समझौता हो गया है. ऐसे में विपक्षी दल इस सीट शेयरिंग के इस फॉर्मूले को भारतीय जनता पार्टी की कमजोरी बता रहे हैं.

आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (फोटो-ट्विटर) आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (फोटो-ट्विटर)

आगामी लोकसभा चुनावों के लिए बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंदन (एनडीए) में सीटों के बंटवारे पर सहमती बन गई है. रविवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह ने बाताया कि उनकी पार्टी 17, नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल युनाईडेट (जेडीयू) 17 और लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) 6 सीटों पर चुनाव लड़ेगी जबकि उसे राज्य सभा में 1 सीट मिलेगी. एलजेपी को राज्यसभा में सीट मिलने पर आरएलएसपी अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि पासवान जानते थें कि लोकसभा चुनाव में एनडीए का खाता नहीं खुलेगा इसलिए मौसम को पहचान कर उन्होंने राज्यसभा में अपनी सीट सुरक्षित कर ली.

चूंकि एलजेपी पिछला लोकसभा चुनाव 7 सीटों पर लड़ी थी लिहाजा एक सीट की भरपाई राज्य सभा से की जा रही है, ऐसी घोषणा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने की. आरएलएसपी अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने इस पर तंज करते हुए ट्वीट में लिखा, 'पासवान जी ने राज्यसभा में अपनी सीट सुरक्षित कर ली..…! मौसम को पहचान कर अच्छा किया भाई साहब आपने.....! आखिर लोकसभा चुनाव में एनडीए का खाता जो नहीं खुलने वाला है...! अग्रिम बधाई.'

दरअसल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी 29 और एलजेपी 7 सीटों पर चुनाव लड़ी थी. जिसमें बीजेपी को 22 सीट पर और एलजेपी को 6 सीटों पर जीत मिली थी. 22 सांसद होने के बावजूद बीजेपी के 17 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए सहमत होने को विरोधी दल कमजोरी के तौर पर प्रचारित कर रहे हैं. आरएलएसपी अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने ट्ववीट में लिखा, 'नीतीश कुमार की गीदड़ भभकी के सामने नतमस्तक हुए छप्पन इंच वाले...! आज इनका सीना छप्पन से छतीस इंच हो गया...! थाली छीनने वाले ने छीन ली सिटिंग सीट...! मगर जनता तैयार बैठी है बच्चों के हाथ से किताब छीनने वालों का हिसाब लेने के लिए.'

पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ही नहीं बिहार में महागठबंधन के सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (आरएलडी) के नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट नें लिखा, 'LJP और JDU को 2 साल बाद प्रधानमंत्री मोदी से नोटबंदी पर सवाल पूछने का फ़ायदा मिला. जनादेश चोरी के बाद भी BJP बिहार में इतनी मज़बूत हुई कि 22 वर्तमान सांसद होने के बावजूद 17 सीट पर चुनाव लड़ेगी और 2 MP वाले नीतीश जी भी 17 सीट पर लड़ेंगे. अब समझ जाइये NDA के कितने पतले हालात है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें